प्लेबैक आपके उपकरण पर नहीं हो पा रहा

बजट में ना आगे गए ना पीछे

विपक्ष ने बजट को निराशाजनक बताया. तो न आम जन ख़ुश, न उद्योगपति बहुत आह्लादित और न शेयर दलाल. पर सरकार के इस दावे में कितना दम है कि इस बजट से देश फिर से विकास की रफ़्तार पकड़ लेगा. राजेश जोशी ने फ़ाइनेंशियल एक्सप्रेस अख़बार के संपादक एमके वेणु से पूछा कि उन्हें बजट से कितनी उम्मीद थी?