प्लेबैक आपके उपकरण पर नहीं हो पा रहा

तालों में कैद सुखदेव का घर

तेइस मार्च 1931 को भगत सिंह, राजगुरु और सुखदेव को अंग्रेज सरकार ने फाँसी के तख्ते पर लटका दिया था. लेकिन उसी सुखदेव का पुश्तैनी घर को एक स्मारक भी नसीब नहीं है. ये घर सरकारी और स्थानीय झगड़ों के कारण कई तालों में क़ैद है.