कहीं पिघल ना जाएं सलमान खान..

 शुक्रवार, 3 अगस्त, 2012 को 10:13 IST तक के समाचार
  • सलमान खान

    हिंदी फ़िल्मों के मशहूर स्टार सलमान खान का मोम से बना पुतला अब लंदन से न्यूयॉर्क लाया गया है और मैडम तुसॉद म्यूज़ियम के चर्चित बॉलीवुड ज़ोन में रखा गया है.‎

    काली टी शर्ट और जींस पहने, कंधे पर जैकेट डाले हुए सलमान खान अपने ख़ास अंदाज़ में खड़े दिखते हैं.

    अन्य भारतीय अभिनेताओं के पुतलों के मुकाबले सलमान का पुतला असल जीवन के सलामन खान के हाव-भाव बहुत खूबसूरती से दर्शाता है.

  • सलमान खान

    सलमान खान अपनी फिल्मों में अपने गठीले बदन का खूब प्रदर्शन करते हैं.

    ज़ाहिर है उनके नज़दीक जाकर उन्हें छूने और साथ तस्वीर खिंचाने के लिए उनके चाहने वालों की भीड़ उमड़ पड़ी.

    उद्घाटन समारोह में माहौल जमाने के लिए बॉलीवुड का संगीत भी बजाया गया.

  • सलमान खान

    सलमान खान के चाहने वालों में सिर्फ कम-उम्र या युवा लड़कियां ही नहीं है बल्कि कई उम्रदराज़ महिलाएं भी इस सुपरस्टार के नज़दीक आने को बेताब थीं.

    1989 में सलमान खान को 'मैंने प्यार किया' फ़िल्म से शोहरत मिली और वह दो दशकों से ज़्यादा समय से भारत में चोटी के सितारे माने जाते हैं.

    हाल में रिलीज़ हुई इनकी फ़िल्म 'बॉडीगार्ड', हिंदी फ़िल्मों के इतिहास में दूसरी सबसे ज़्यादा कमाई करने वाली फ़िल्म बन गई थी.

  • मैडम तुसौद संग्रहालय

    मोम के पुतलों का संग्रहालय 'मैडम तुसौद' सबसे पहले लंदन में बनाया गया.

    इस संग्रहालय में दुनियाभर के कई राजनेताओं, वैज्ञानिकों, लेखकों, खिलाड़ियों और हॉलिवुड तथा बॉलिवुड की हस्तियों के पुतले रखे गए हैं.

    न्यू यॉर्क में भी बॉलीवुड का बुखार थमा नहीं है, अब संग्रहालय का इरादा है कि वहां कई और बॉलीवुड के सितारों के पुतले लाकर रखे जाएं.

  • शाहरुख खान

    इससे पहले इस मोम संग्रहालय में शाहरूख खान, ऐश्वर्या राय बच्चन और अमिताभ बच्चन के पुतले रखे जा चुके हैं.

    बॉलीवुड ज़ोन में बारी-बारी से लोग इन पुतलों के साथ अठखेलियां करते हुए तस्वीरें खिंचवा रहे थे.

    कोई सितारों के पुतलों के कंधे पर हाथ रखता, कोई गाल चूमने की कोशिश करता तो कोई आंखों में आंखें डाल कर सितारों के पुतलों से ही बातें करने की कोशिश करता प्रतीत हो रहा था.

    (तस्वीरें: सलीम रिज़वी, न्यूयॉर्क)

Videos and Photos

BBC © 2014 बाहरी वेबसाइटों की विषय सामग्री के लिए बीबीसी ज़िम्मेदार नहीं है.

यदि आप अपने वेब ब्राउज़र को अपडेट करते हुए इसे स्टाइल शीट (सीएसएस) के अनुरूप कर लें तो आप इस पेज को ठीक तरह से देख सकेंगे. अपने मौजूदा ब्राउज़र की मदद से यदि आप इस पेज की सामग्री देख भी पा रहे हैं तो भी इस पेज को पूरा नहीं देख सकेंगे. कृपया अपने वेब ब्राउज़र को अपडेट करने या फिर संभव हो तो इसे स्टाइल शीट (सीएसएस) के अनुरुप बनाने पर विचार करें.