फोटोग्राफी का फलता-फूलता दौर

 रविवार, 16 सितंबर, 2012 को 22:09 IST तक के समाचार
  • फोटो प्रदर्शनी
    ऐसा माना जाता है कि 1960 और 70 के दशक में फोटोग्राफ़ी फली-फूली और फोटोग्राफरों को अपने काम का जलवा दिखाने का मौक़ा अंतरराष्ट्रीय स्तर पर लगा. इन दशकों की कुछ ख़ास तस्वीरों की गैलरी लंदन में लगी है. ये तस्वीर है रघुवीर सिंह की खींची हुई. वर्ष 1977 की ये तस्वीर प्रयाग यानी इलाहाबाद की है.
  • फोटो प्रदर्शनी
    डेविड गोल्डब्लैट की ये तस्वीर 1979-80 की मिस लवली लेग्स प्रतियोगिता की है. (सौजन्य: फोटोग्राफर और गुडमैन गैलरी, जोहानेसबर्ग)
  • फोटो प्रदर्शनी
    1960 के दशक के आख़िर की ये तस्वीर बोरिस मिखाइलोव की है. इस तस्वीर में आप दो तस्वीरों का सुपरइम्पोजिशन देख सकते हैं. (सौजन्य: गैलेरिया बारबारा वीस, बर्लिन, (c) बोरिस मिखाइलोव, डीएसीएस 2012)
  • फोटो प्रदर्शनी
    ब्रूस डेविडसन की ये तस्वीर न्यूयॉर्क की ज़िंदगी सिरीज़ का हिस्सा है. 1961-65 (c) ब्रूस डेविडसन और मैगनम फोटोज़
  • फोटो प्रदर्शनी
    ग्रेसिएला लटुरबाइड की ये तस्वीर है- एंजेल वूमैन, सोनोरा डेजर्ट- 1979
  • फोटो प्रदर्शनी
    मलिक सिडिबे की ये तस्वीर है- यी यी पोजिंग- 1963 (c) मलिक सिडिबे, सौजन्य फिफ्टी वन फाइन आर्ट फोटोग्राफी, एंटवर्प
  • फोटो प्रदर्शनी
    शोमेई तोमात्सु, कोका कोला, टोक्यो, 1969 (सौजन्य: ताका ईशी गैलरी और नगोया सिटी आर्ट म्यूजियम)
  • फोटो प्रदर्शनी
    इमेस्ट कोल की ये तस्वीर पेन्सिव जनजाति पर है, जिन्हें खदान मज़दूर के रूप में नियुक्त किया गया था.
  • फोटो प्रदर्शनी
    लैरी बरोज की ये तस्वीर अप्रैल 1968 की है.
  • फोटो प्रदर्शनी
    13 सितंबर 1966 की ये तस्वीर उस समय की है, जब हज़ारों की संख्या में रेड गार्ड के जवान माओ की विचारधारा सीखने और लागू करने के लिए इकट्ठा हुए थे.

Videos and Photos

BBC © 2014 बाहरी वेबसाइटों की विषय सामग्री के लिए बीबीसी ज़िम्मेदार नहीं है.

यदि आप अपने वेब ब्राउज़र को अपडेट करते हुए इसे स्टाइल शीट (सीएसएस) के अनुरूप कर लें तो आप इस पेज को ठीक तरह से देख सकेंगे. अपने मौजूदा ब्राउज़र की मदद से यदि आप इस पेज की सामग्री देख भी पा रहे हैं तो भी इस पेज को पूरा नहीं देख सकेंगे. कृपया अपने वेब ब्राउज़र को अपडेट करने या फिर संभव हो तो इसे स्टाइल शीट (सीएसएस) के अनुरुप बनाने पर विचार करें.