वो जिनकी याद हमेशा आएगी

 सोमवार, 17 दिसंबर, 2012 को 03:39 IST तक के समाचार
  • अमरीकी राज्य कनेक्टीकट में न्यूटाउन शहर के सैंडी हुक एलेमेंट्री स्कूल के छात्रों के लिए शुक्रवार का दिन किसी त्रासदी से कम नहीं था जब 20 वर्षीय एक हमलावर ने अंधाधुंध गोलियां चला कर 20 बच्चों और छह वयस्कों की हत्या कर डाली.
  • ये नरसंहार क्रिसमस से ठीक पहले हुआ है. सैंडी हुक स्कूल पहुंच कर बच्चों को श्रद्धांजलि देने वालों ने उनकी याद में वहां कुछ क्रिसमस ट्री भी बनाए हैं.
  • हाल के समय में अमरीका में स्कूलों में गोलीबारी की घटनाएं बढ़ी हैं जिसके बाद सरकार पर हथियार रखने संबंधी कानून में बदलाव का दबाव बढ़ गया है.
  • चेस कोवालस्की भी सैंडी हुक स्कूल में हुई गोलीबारी में मारे गए बच्चों में शामिल था. इस घटना को अमरीकी इतिहास में गोलीबारी की सबसे बड़ी वारदात बताया जा रहा है.
  • अपने बच्चों को खोने वाले माता पिता ही नहीं, बल्कि इस घटना ने मानो हर किसी को हिला दिया है. स्कूल के पास बने अस्थायी स्मारक पर बड़ी संख्या में लोग आ रहे हैं.
  • स्कूल के पास उन लोगों की याद में लकड़ी के बने 27 एंजल्स यानी फरिश्तों को लगाया गया है जिन्होंने इस घटना में अपनी जानें गंवाई.
  • एमिली पार्कर को याद करके उनके पिता रॉबर्ट पार्कर के आंसू नहीं थमते हैं. वो बताते हैं कि एमिली से उनकी आखिरी बातचीत पुर्तगाली भाषा में हुई थी, वो स्कूल में इस भाषा को सीख रही थी.
  • नोह पोजनर की ये तस्वीर फेसबुक से ली गई है. वो भी उन 20 बच्चों में शामिल था जो इस हमलावर को गोली का निशाना बने.
  • इस गोलीबारी में मारे गए सभी बच्चों की उम्र छह से सात साल के बीच थी. उन सभी के नाम अमरीकी ध्वज के माध्यम से दर्शाए गए.
  • इस गोलीबारी कांड के पीड़ितों से एकजुटता जताने राष्ट्रपति बराक ओबामा भी जल्द कनेक्टीकट जाएंगे.

Videos and Photos

BBC © 2014 बाहरी वेबसाइटों की विषय सामग्री के लिए बीबीसी ज़िम्मेदार नहीं है.

यदि आप अपने वेब ब्राउज़र को अपडेट करते हुए इसे स्टाइल शीट (सीएसएस) के अनुरूप कर लें तो आप इस पेज को ठीक तरह से देख सकेंगे. अपने मौजूदा ब्राउज़र की मदद से यदि आप इस पेज की सामग्री देख भी पा रहे हैं तो भी इस पेज को पूरा नहीं देख सकेंगे. कृपया अपने वेब ब्राउज़र को अपडेट करने या फिर संभव हो तो इसे स्टाइल शीट (सीएसएस) के अनुरुप बनाने पर विचार करें.