हैंगओवर भगाने के लिए गैंडों का शिकार

 बुधवार, 23 जनवरी, 2013 को 17:05 IST तक के समाचार

गैंडों का अवैध शिकार

  • भारत और दक्षिण अफ्रीका समेत दुनिया में बड़े पैमाने पर गैंडों का अवैध शिकार हो रहा है. खासकर उनके सींगों के लिए .
  • चीन और वियतनाम जैसे देशों में मान्यता है कि गैंडों के सींगों के पाउडर में चिकित्सय शक्ति होती है और कैंसर में मददगार होता है. ये सींग 65000 डॉलर प्रति किलो तक बिकते हैं.
  • वन्यजीवों पर निगरानी रखने वाली संस्था ट्रैफिक के मुताबिक गैंडों के सींग बर्बर तरीके से काट लिए जाते हैं और लहू लुहान जानवर को मरने के लिए छोड़ दिया जाता है. ट्रैफिक के अनुसार इन सींगों को हासिल करने का मकसद होता है हैंगओवर दूर करने के लिए दवा बनाना.
  • भारत के काज़िरंगा रिज़र्व में 2200 से ज़्यादा गैंडे हैं. लेकिन हथियारबंद रेंजर और गार्ड होने के बावजूद शिकार नहीं रुका है.
  • दुनिया में करीब 28000 गैंडे हैं. दक्षिण अफ्रीका में एक मादा गैंडें के सींग और खोपड़ी के पास एक हड्डी आरी से काट दिए गए. लेकिन वो ज़िंदा बच गई.
  • विशेषज्ञों का कहना है कि एशिया में इन सींगों की ज़्यादा माँग है.
  • वर्ष 2011 के मुकाबले 2012 में सीगों के लिए मारे जाने वाले गैंडों की संख्या दोगुनी हो गई.
  • आपराधिक गैंग गैंडों को पकड़ने और उनके सींग काटने के लिए आधुनिक तकनीक का इस्तेमाल करते हैं.
  • गैंडों को बचाने के लिए सरकारें कड़े कदम उठा रही हैं. दक्षिण अफ्रीका में तो सैनिकों और विमानों का इस्तेमाल किया जा रहा है.
  • ट्रैफिक संस्था के मुताबिक दक्षिण अफ्रीका में गैंडों की संख्या कम होती जा रही है.

Videos and Photos

BBC © 2014 बाहरी वेबसाइटों की विषय सामग्री के लिए बीबीसी ज़िम्मेदार नहीं है.

यदि आप अपने वेब ब्राउज़र को अपडेट करते हुए इसे स्टाइल शीट (सीएसएस) के अनुरूप कर लें तो आप इस पेज को ठीक तरह से देख सकेंगे. अपने मौजूदा ब्राउज़र की मदद से यदि आप इस पेज की सामग्री देख भी पा रहे हैं तो भी इस पेज को पूरा नहीं देख सकेंगे. कृपया अपने वेब ब्राउज़र को अपडेट करने या फिर संभव हो तो इसे स्टाइल शीट (सीएसएस) के अनुरुप बनाने पर विचार करें.