बैलगाड़ी नहीं, लग्ज़री कारों वाले किसान