समलैंगिकता जरुरी है या नौकरी?