प्लेबैक आपके उपकरण पर नहीं हो पा रहा

बुज़ुर्गों को पसंद रिटायरमेंट होम

आम तौर पर मां-बाप बच्चों से बुढ़ापे में देख-रेख की उम्मीद रखते है. लेकिन अब ये चलन बदल रहा है.

कई मध्यमवर्गीय बुज़ुर्ग खुद रिटायरमेंट होम में अपनी ज़िंदगी अपने तरीके से बिता रहे हैं. बिल्डर भी इस तबके को लुभाने की कोशिश कर रहे हैं.

आज़ादी की चाह रखने वाले ये समृद्ध बुज़ुर्ग एक सामाजिक बदलाव की शुरुआत कर रहे हैं. बीबीसी संवाददाता शालू यादव की रिपोर्ट.