प्लेबैक आपके उपकरण पर नहीं हो पा रहा

आदिवासियों को नहीं लुभाते विकास के वादे

10 साल पहले वेदांता और ओडिशा सरकार की कंपनी के बीच समझौता हुआ था कि वेदांता 30 साल में क़रीब 15 करोड़ टन बॉक्साइट खनन करेगी.

मल्टीनेशनल कंपनी वेदांता रिसोर्सेज़ का कहना था कि बॉक्साइट खनन होने पर वहां विकास होगा, आदिवासियों को नौकरियां मिलेंगी.

लेकिन स्थानीय डोंगरिया कोंध आदिवासी और उनका समर्थन करने वाले लोग, विकास की इस दलील से सहमति नहीं रखते हैं.

नियमगिरी पहाड़ों के आदिवासी इलाक़े से बीबीसी ग्लोबल इंडिया की विशेष रिपोर्ट.