प्लेबैक आपके उपकरण पर नहीं हो पा रहा

भारत-अमरीका के व्यापारिक रिश्तों में तल्खी

एक वक्त था कि भारत-अमरीका रिश्तों को अमरीकी राष्ट्रपति बराक ओबामा ने 21वीं सदी की निर्धारक साझेदारी बताया था. लेकिन फिलहाल सस्ती दवाइयों, सॉफ़्टवेयर पायरेसी और पेटेंट संबंधी मुद्दों के चलते दोनों देशों के बीच व्यापारिक रिश्तों में कुछ हद तक खटास आ गई है. भारत के छह बाज़ारों को तो अमरीका कुख्यात सूची में डाल ही चुका है. भारत को अमरीकी पेटेंट के उल्लंघन करने वाले सबसे दोषी देशों में शामिल करने की मांग पर भी अमरीका के व्यापारिक प्रतिनिधियों का गुट गौर कर रहा है. ग्लोबल इंडिया के लिए वाशिंगटन से ब्रजेश उपाध्याय की रिपोर्ट