आदिवासियों की चुनौतियां कायम हैं

नियमगिरी के डोंगरिया आदिवासियों ने बीते साल ब्रिटिश कंपनी वेदांत को इलाके से बाहर जाने पर मज़बूर कर दिया, लेकिन इसके बावजूद ये आदिवासी क़तार के आख़िरी लोगों में शामिल हैं. आजादी के 66 सालों के बाद ये आदिवासी क्यों मुख्यधारा से नहीं जुड़ पाए, यही जानने की कोशिश की है बीबीसी संवाददाता फ़ैसल मोहम्मद अली ने. देखिए-सुनिए उनकी रिपोर्ट.

(इस ऑडियो स्लाइड शो को डेस्कटॉप पर ही देखा जा सकता है)