bismillah khan
प्लेबैक आपके उपकरण पर नहीं हो पा रहा

उस्ताद की शहनाई को तरसा बनारस

उस्ताद बिस्मिल्लाह खान की शहनाई की साज़ ने बनारस की रामलीला और मोहर्रम को वर्षों तक यादगार बनाया. आज भी इन मौकों पर उनकी मौसिकी को तरसते हैं बनारस के लोग. बीबीसी उर्दू संवाददाता ख़दीजा आरिफ़ की खास रिपोर्ट.