पंजाबी सैनिक
प्लेबैक आपके उपकरण पर नहीं हो पा रहा

जिन कंधों ने संभाला गिरते आसमान को

पहले विश्व युद्ध में ग्यारह लाख भारतीय सैनिकों ने ब्रिटिश साम्राज्य के लिए लड़ाई लड़ी. इनमें से 60,000 सैनिकों ने अपने प्राणों की आहुति दी. 70,000 सैनिक हमेशा के लिए अपंग हो गए और 9200 सैनिकों को उनकी वीरता के लिए पदक मिले.

लेकिन इतिहास के पन्नों में उनकी बहादुरी को या तो जगह नहीं मिली और अगर मिली भी तो सिर्फ़ फुटनोट के तौर पर. और तो और ये भारतीय सैनिक, भारतीयों के दिलों में भी जगह नहीं बना सके. प्रथम विश्व युद्ध की शताब्दी पर रेहान फ़ज़ल याद कर रहे हैं उन सिपाहियों के योगदान को.