प्रथम विश्व युद्ध में लड़े भारतीय सैनिक
प्लेबैक आपके उपकरण पर नहीं हो पा रहा

लिखे जो ख़त तुम्हें

विवेचना में इस बार रेहान फ़ज़ल बात कर रहे हैं उन चिट्ठियों की जो आज से सौ साल पहले अपने घर से हज़ारों मील दूर जंग के मैदान में घायल, थके-हारे और परेशान सैनिकों ने अपने घरवालों को लिखी थीं.

बात है प्रथम विश्व युद्ध की. इन चिट्ठियों में अँग्रेज़ों की ओर से युद्ध लड़ रहे भारतीय सैनिकों के दुख हैं, हताशा है और जीवन की आशा भी है.