वी स्प्रॉल
प्लेबैक आपके उपकरण पर नहीं हो पा रहा

48 घंटों में बनी फिल्में

दिल्ली में कुछ उभरते हुए फ़िल्मकारों ने वक़्त के साथ मुक़ाबला किया. ये सब भाग ले रहे थे दिल्ली में हुए '48 ऑवर्स फ़िल्म प्रोजेक्ट' में जहां उन्हें 48 घंटो में फ़िल्म बनानी थी.

फ़िल्म की कहानी को सोचने से लेकर फ़िल्म की शूटिंग और एडिटिंग तक, सब कुछ 48 घंटो में करना था.

ये प्रतियोगिता दुनिया भर में होती है. फ़िल्म अच्छी बनी, तो हो सकता है कि फ़िल्म का प्रदर्शन फ़्रांस में सालाना होने वाले 'कान्स फ़िल्म फ़ेस्टिवल' में हो.

सुमिरन प्रीत कौर ने बिताए इन फिल्मकारों के साथ दो दिन.