कश्मीरी पंडित हिंदू लड़कियां
प्लेबैक आपके उपकरण पर नहीं हो पा रहा

पोस्टकार्ड: हिन्दी कवि डॉ अग्निशेखर

कश्मीरी पंडितों का पलायन शुरू होने से पहले कश्मीर घाटी के साहित्यिक माहौल के बारे में एक हिन्दी कवि और लेखक डॉक्टर अग्निशेखर की यादें.

हवा बदल चुकी थी. हिंदी साहित्य सम्मेलन के दिनों की स्मृतियों के साथ जी रही पीढ़ी हम नए युवा रचनाकारों को नई ऊर्जा, नए भावबोध, नई उमंगों से भरे साहित्यकारों के रूप में देख रही थी.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)