रक़्क़ा
प्लेबैक आपके उपकरण पर नहीं हो पा रहा

रक़्क़ा डायरी-4

ख़ुद को इस्लामिक स्टेट कहने वाले चरममंथी गुट के साए में रह रहे लोगों की ज़िंदगी कैसी होती है?

क्या होता है जब लोगों की मर्ज़ी के बिना उनसे काम करवाए जाते हैं?

इस्लामिक स्टेट के प्रभाव वाले रक्क़ा शहर में डर के साए में जीते एक ऐसे शख़्स की आपबीती, एक ऑडियो डायरी के रूप में सुनिए.