मैसूर चिड़ियाघर
प्लेबैक आपके उपकरण पर नहीं हो पा रहा

पानी की कमी नहीं तो गर्मी का पता नहीं...

मैसूर में करीब 1500 पक्षी और जानवर मस्ती मार रहे हैं क्योंकि पर्याप्त पानी उपलब्ध है. संभवतः यह देश के बहुत कम चिड़ियाघरों में से एक है जहां प्राकृतिक जल स्रोत उपलब्ध है जिसकी मदद से जानवर इस भारी गर्मी को झेल पा रहे हैं.

80 एकड़ से ज़्यादा इलाक़े में फैले चिड़ियाघर के 1500 से ज़्यादा जानवरों में 156 से ज़्यादा प्रजातियां हैं. इसके अलावा 70 एकड़ में फैले करंजी तालाब क्षेत्र में इतनी वनस्पतियां होती हैं कि इनके लिए पक्षियों की कई प्रजातियां हर साल आती हैं.

यहां के करीब 300 जानवरों को लोगों ने गोद लिया है जिससे चिड़ियाघर को हर साल 30 लाख रुपये से ज़्यादा का दान मिलता है.