उत्तर कोरिया के मुद्दे पर संयम की अपील

उत्तर कोरिया के कई मिसाइलें दागने के बाद रूस, चीन और अमरीका ने संयम बरतने की अपील की है.

Image caption उत्तर कोरिया के परीक्षण पर चीन, रूस अमरीका ने संयम की अपील की है

उत्तर कोरिया ने चार जुलाई को सात बैलिस्टिक मिसाइलें दागीं जिनकी रेंज करीब 500 किलोमीटर है. रूस और चीन ने उत्तर कोरिया से बातचीत शुरु करने की अपील की है जबकि एक अमरीकी अधिकारी ने कहा है कि वो तनाव और न बढ़ाए. संयुक्त राष्ट्र के प्रतिबंधों के तहत उत्तर कोरिया पर बैलिस्टिक मिसाइल से जुड़ी गतिविधियाँ करने पर रोक है. मई में उत्तर कोरिया ने दूसरी बार भूमिगत परमाणु परीक्षण किया था जिसके बाद ये प्रतिबंध और कड़े कर दिए गए. परमाणु परीक्षण के बाद से उत्तर कोरिया ने कई मिसाइलें दागीं है. गुरुवार को उसने कम दूरी वाली मिसाइलें दागीं. ये मिसाइलें सी ऑफ़ जापान में जाकर गिरीं. दक्षिण अफ़्रीकी अधिकारियों का कहना है कि ये मिसाइलें मध्यम दूरी की हो सकती हैं जिनसे जापान तक हमला किया जा सकता है.

तनाव

दक्षिण कोरिया और जापान ने इसे भड़काऊ क़दम बताया है. अमरीकी विदेश मंत्रालय के एक प्रवक्ता ने कहा कि ये क़दम मददगार नहीं है और उत्तर कोरिया को ऐसा काम नहीं करना चाहिए जिससे तनाव बढ़े. रूस और चीन ने सब पक्षों से कहा है कि वे ऐसा कुछ न करें जिससे अस्थिरता और बढ़े. उत्तर कोरिया अपने परमाणु कार्यक्रम को ख़त्म करने संबंधी बातचीत से अलग हो गया था. इसके बाद से बाकी देशों के साथ उसके संबंध तनावपूर्ण रहे हैं. उत्तर कोरिया कह चुका है कि वो यूरेनियम संवर्धन का काम शुरु कर देगा. इससे आशंका जताई जा रही है कि वो ऐसे परमाणु युद्धअस्त्र बना रहा है जिससे मिसाइलें दागी जा सकेंगी. हालांकि विश्लेषकों का कहना है कि ऐसा करने में वक़्त लगेगा. 12 जून को संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद ने एक प्रस्ताव पारित किया था जिसमें हवाई, ज़मीनी और समुद्री मार्ग के ज़रिए उत्तर कोरिया से आने और जाने वाली ऐसी सामग्री की जाँच की जा सकेगी जिस पर प्रतिबंधित हथियार होने की आशंका हो. उत्तर कोरिया ने कहा है कि वो ऐसे किसी क़दम को युद्ध की घोषणा मानेगा.

संबंधित समाचार