शिनजियांग में सैकड़ों सुरक्षाकर्मी तैनात

शिनजियांग
Image caption शिनजियांग में वीगर और हान समुदायों में ख़ासा तनाव है

चीन के उत्तर-दक्षिणी प्रांत शिनजियांग में सांप्रदायिक हिंसा के कारण चीन के राष्ट्रपति हू जिंताओ इटली में जी-8 सम्मेलन में भाग लेने के अपने कार्यक्रम को बीच में ही छोड़कर वापस लौट रहे हैं.

ग़ौरतलब है कि शिनजियांग प्रांत की राजधानी उरुमकी में रविवार को मुस्लिम वीगर और हान चीनी समुदाय के बीच दंगे भड़क उठे थे जिसमें 150 से अधिक लोगों की मारे गए थे.

उरुमकी में मौजूद एक बीबीसी संवाददाता का कहना है कि शहर में सड़कों पर सैकड़ों चीनी अर्धसैनिक बल तैनात किए गए हैं और अनेक जगहों पर गश्त लगाई जा रही है.

कड़ी सुरक्षा

शहर में वीगर समुदाय की आबादी वाले जगहों के आसपास सुरक्षा व्यवस्था कड़ी कर दी गई है और आसमान से अनेक हेलिकॉप्टरों के ज़रिए भी स्थिति का जायज़ा लिया जा रहा है.

बीबीसी संवाददाता का कहना है कि वैसे तो मार्शल लॉ लागू नहीं है लेकिन स्थिति बिलकुल मार्शल लॉ जैसी ही है.

संयुक्त राष्ट्र मानवाधिकार अधिकारी नवी पिल्लै और अमरीकी विदेश मंत्रीहिलेरी क्लिंटन ने दोनों पक्षों से संयम बरतने की अपील की है.

आरोप-प्रत्यारोप

मंगलवार को उरुमकी में प्रदर्शनों और टकराव के बाद रात में वहाँ कर्फ़्यू लगा दिया गया था.

चीनकी सरकार ने हिंसा के लिए मुस्लिम वीगर समुदाय को दोषी ठहराया है लेकिननिर्वासन में रह रहे कुछ वीगर लोगों का कहना है कि पुलिस ने छात्रों परगोली चलाई थी.

प्रदर्शनकारियों का कहना है कि वे वीगर समुदाय के दोलोगों के मारे जाने के बाद न्याय की माँग करते हुए प्रदर्शन कर रहे थे.