आग मे झुलसा एथेंस का उपनगर

 ग्रीस की आग
Image caption जंगल की आग मे जलता एथेंस

जंगलों में लगी बेक़ाबू आग के कारण ग्रीस की राजधानी एथेंस के उपनगर आगियोस स्तेफानोस की पूरी आबादी को शहर छोड़ना पड़ा है.

अग्निशमन विभाग का कहना है कि एथेंस के उत्तरपूर्वी हिस्से में लगी इस आग की लपटें तेज़ हवाओं के साथ चारों तरफ फैल रही हैं.

ग्रीस के प्रधानमंत्री कोस्तास करामानलिस ने कहा है कि देश गंभीर संकट से जूझ रहा है.

आगियोस स्तेफानोस के उप मेयर पनायिओतिस बिताकोस ने टेलीविज़न पर लोगों से इलाक़ा छोड़ने की अपील करते हुए कहा, “ मैं सभी निवासियों से अनुरोध करता हूं कि वे पुलिस के निर्देशों का पालन करते हुए वहीं जाएं, जहां उन्हें जाने को कहा जा रहा है. ”

आगियोस स्तेफानोस की सड़कों पर पुलिस ने लाउडस्पीकरों पर लोगों को निर्देश दिए कि वे उपनगर से निकल कर एथेंस शहर में चले जाएं.

बताया जाता है कि शुक्रवार की रात को ग्रामातिको शहर में कचरा नष्ट करने के लिए बनाई जा रही इमारत के निर्माण स्थल से ये आग शुरू हुई और शनिवार को वार्नावास तक फैल गई.

रविवार की सुबह तक ये आग एथेंस के उपनगर द्राफी, पेंदेली, पिकेर्मी, और पालिनी को अपनी लपेट मे ले चुकी थीं.

एथेंस में मौजूद बीबीसी संवाददाता के मुताबिक़ द्राफी जैसे घने जंगलों में आग से ऐसी तबाही मची है कि एक भी पेड़ खड़ा दिखाई देना मुश्किल है. किसी समय हरी भरी घाटी कहलाने वाला द्राफी का इलाक़ा राख के ढेर में बदल गया है.

मजबूरी

कई स्थानीय निवासियों का कहना था कि उन्हें अचानक उस समय अपने घरों से भागना पडा, जब आग की लपटें उनके घरों की पिछली दीवारों तक आ चुकीं थीं.

जंगलों की आग पर क़ाबू पाने के लिए अधिकारियों के पास जल बम बरसाने वाले इतने विमान भी नहीं हैं जो हर जलते हुए जंगल पर पानी बरसा सकें.

ग्रीस सरकार ने जंगलों की आग पर क़ाबू पाने के लिए अंतराराष्ट्रीय मदद मांगी थी, जिसके जवाब में इटली, फ्रांस और साइप्रस ने पानी बरसाने वाले ऐसे विमान भेजे हैं, जो आग बुझाने में मदद दे सकें.

अधिकारियों ने जंगल की आग को वर्ष 2007 के बाद की क्षेत्र की सबसे भीषण पर्यावरणीय आपदा घोषित किया है. ग़ौरतलब है कि दो साल पहले लगी जंगल की आग में 70 लोग मारे गए थे.

कहा जा रहा है कि 2007 में लगी जंगल की आग ने चीड़ के जंगलों को भयानक रूप से तबाह किया था और इस बार जितनी हरियाली जल गई है, उससे एथेंस की हवा पर बुरा असर पड़ सकता है.

संबंधित समाचार