ग्यारह सितंबर की आठवीं बरसी

Image caption ग्राउंड ज़ीरो पर अब भी निर्माण कार्य चल रहा है

अमरीका में ग्यारह सितंबर के हमलों की आठवीं बरसी मनाई जा रही है जहाँ हमले में मारे गए लोगों को श्रद्धांजलियाँ दी जा रही हैं.

इन हमलों में वर्ष 2001 में न्यूयॉर्क के वर्ल्ड ट्रेड सेंटर, अमरीकी रक्षा मंत्रालय (पेंटागॉन) और पेन्सिलवेनिया में कुल मिलाकर लगभग तीन हज़ार लोग मारे गए थे.

हर वर्ष की तरह आज भी न्यूयॉर्क में ट्विन टावर की साइट के पास--जिसे अब ग्राउंड ज़ीरो कहा जाता है--हज़ारों लोग जमा हुए.

परंपरा से अलग हटकर इस बार ग्यारह सितंबर को 'सर्विस डे' के तौर मनाया जा रहा है, बराक ओबामा ने लोगों से कहा कि आज के दिन मारे गए लोगों की स्मृति में सामाजिक कार्य और श्रमदान करें.

अमरीकी राष्ट्रपति बराक ओबामा ग्यारह सितंबर के मौक़े पर पेंटागॉन जा रहे हैं जहाँ वे हमले में मारे गए लोगों को श्रद्धांजलि देंगे, वहाँ 184 लोग मारे गए थे. उप-राष्ट्रपति जो बाइडन न्यूयॉर्क में हुई श्रद्धांजलि सभा में मौजूद थे.

अफ़ग़ानिस्तान में तैनात कई अमरीकी सैनिकों ने 9.11 किलोमीटर दौड़कर 9/11 के हमले में मारे गए लोगों को याद किया.

अमरीका में कई स्थानों पर शोक सभाओं का आयोजन किया गया और लोगों ने मौन रहकर मृतकों को याद किया, कई स्थानों पर बहुत ही भावुक दृश्य दिखाई दिए.

व्हाइट हाउस के प्रेस सचिव रॉबर्ट गिब्स ने कहा, "आज का दिन हमें सिर्फ़ पेंटागॉन ही नहीं, पेन्सिलवेनिया और न्यूयॉर्क में हज़ारों लोगों के बलिदान को याद दिलाता है."

न्यूयॉर्क में चार बार एक-एक मिनट का मौन रखा गया, दो बार जिस वक़्त विमान वर्ल्ड ट्रेड सेंटर की इमारत से टकराए और दो बार जिस वक़्त दो टावर एक-एक करके गिरे.

हर बार की तरह इस बार भी न्यूयॉर्क में आयोजित शोक सभा में उन 2700 लोगों के नाम पढ़कर सुनाए गए जिनकी मौत वर्ल्ड ट्रेड सेंटर में हुई थी.

न्यूयॉर्क में जहाँ वर्ल्ड ट्रेड सेंटर में मारे गए लोगों की याद में सभा का आयोजन जिस स्थान पर किया गया वहाँ अब भी निर्माण कार्य चल रहा है, उस स्थान पर एक संग्रहालय और पाँच नई गगनचुंबी इमारतें बनाने की योजना है.

संबंधित समाचार