सीआईए के ख़िलाफ़ जाँच रोकने की अपील

ग्वांतानामो बे क़ैदी शिविर
Image caption निदेशकों का कहना है कि जाँच से अल क़ायदा को मज़बूती मिलेगी.

अमरीकी ख़ुफ़िया एजेंसी सीआईए के सात पूर्व निदेशकों ने राष्ट्रपति बराक ओबामा से अपील की है कि ग्वांतानामो बे में क़ैद अल क़यदा चरमपंथियों के साथ पूछ ताछ के दौरान की गई कथित ज़्यादतियों की जाँच रोक दी जाए.

बराक़ ओबामा ग्वांतानामो बे क़ैदी शिविर को बंद करने की घोषणा पहले ही कर चुके हैं.

ओबामा प्रशासन ने वहाँ पूछताछ के दौरान क़ैदियों के कथित उत्पीड़न की जाँच कराने के आदेश दिए थे.

सीआईए के पूर्व निदेशकों का कहना है कि इस तरह की कार्रवाई से सीआईए अधिकारियों का मनोबल गिरेगा और अल क़ायदा के खिलाफ़ जानकारियाँ हासिल करने के अहम काम में बाधा आएगी.

उन्होंने सीआईए अधिकारियों के ख़िलाफ़ किसी तरह की जाँच और कार्रवाई का विरोध किया.

ओबामा के अटर्नी जनरल एरिक होल्डर का इस पर कहना है, "उन्होंने जब वो रिपोर्ट पढ़ी जो सीआईए के इंस्पेक्टर जनरल ने 2004 में बनाई थी, तब उन्हें लगा कि पूरे मामले की जाँच कराई जाए."

इसी रिपोर्ट में पूछताछ के दौरान अपनाई जाने वाली पद्धतियों पर आपत्ति जताई गई थी.

एरिक होल्डर का कहना था कि अगर जाँच नहीं की गई तो लोग समझेंगे कि सीआईए ने जो उत्पीड़न किया है उसे अमरीका छिपाना चाहता है.

ये सातो पूर्व निदेशक पूर्ववर्ती रिपब्लिकन पार्टी के शासनकाल में सीआईए से जुड़े रहे थे.

इनकी दलील है कि इस तरह की जाँच से अल क़ायदा मज़बूत होगा.

उनके मुताबिक सीआईए जिस तरह जाँच करता है, उसके विवरण सार्वजनिक होने से अल क़ायदा अपनी रणनीति में बदलाव कर सकता है.

संबंधित समाचार