वरिष्ठ माओवादी नेता गिरफ़्तार

Image caption माओवादीयों का आदिवासियों मे अच्छा आधार रहा है

दिल्ली में पुलिस और सुरक्षा एजेंसियों ने भारतीय कम्युनिस्ट पार्टी (माओवादी) के पोलित ब्यूरो सदस्य कोपड़ गांधी को गिरफ़्तार किया है.

कोपड़ गांधी की गिनती बड़े माओवादी विचारकों मे होती है और वो पार्टी का प्रकाशन विभाग संभालते हैं.

हालांकि दिल्ली पुलिस के प्रवक्ता राजन भगत ने उनकी गिरफ़्तारी पर कोई प्रतिक्रिया देने से मना कर दिया लेकिन माओवादीयों ने कोपड़ गांधी की गिरफ़्तारी की पुष्टि की है.

वरिष्ठ माओवादी नेता और पार्टी के पोलित ब्यूरो सदस्य कोटेश्वर राव उर्फ किशेन जी ने बीबीसी को फ़ोन पर कोपड़ गांधी की गिरफ़्तारी की पुष्टि की.

उनका कहना था की वो ये नहीं बता सकते कि उनको कहाँ से गिरफ़्तार किया गया है, लेकिन उनके पास ये ठोस जानकारी है कि उनको गिरफ़्तार किया गया है.

आशंका

राव का कहना था की कोपड़ गांधी का स्वास्थ्य ठीक नहीं है और उन्हे आशंका है कि पुलिस हिरासत मे उनका स्वास्थ्य और बिगड़ सकता है.

कोपङ गांधी पर माओवादी आंदोलन को शहरों मे फैलाने की ज़िम्मेदारी भी थी. पार्टी नेता कोटेश्वर राव का कहना था कि गांधी की गिरफ़्तारी से उनकी पार्टी की कई योजनाओं और कार्यक्रमों को झटका लगेगा.

माओवादी नेता राव ने ये भी स्वीकार किया कि पिछले दिनों ही उनके एक और बड़े नेता (अनिल जी) को भी झारखंड और पश्चिम बंगाल पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया था.

कुछ मानवाधिकार संगठनों ने हिरासत के दौरान कोपड़ गांधी ज़्यादतियों की आशंका प्रकट की है.

इसी साल जून महीने में सीपीआई (माओवादी) को आतंकवादी संगठन की सूची में डालकर केंद्र सरकार ने इसे प्रतिबंधित कर दिया था.

इसके अलावा हाल ही में केंद्र सरकार ने अख़बारों मे विज्ञापन देकर इस संगठन को कोल्ड मर्डरर यानी सोच समझ कर क़त्ल करने वाले क़रार दिया है.

संबंधित समाचार