रिकार्ड पर पहुंचे सोने के दाम

Image caption सोने के दाम एक नया रिकॉर्ड बना चुके हैं

अमरीकी डॉलर की कीमत कम होने के कारण लोगों में ताबड़तोड़ सोना खरीदा है जिससे सोने की क़ीमतें रिकार्ड स्तर पर पहुंच गई हैं.

अंतरराष्ट्रीय बाज़ार में फिलहाल लगभग 28 ग्राम सोने के कीमत एक हज़ार अमरीकी डॉलर से भी ज्यादा हो चुकी है जो अपने आप में एक रिकॉर्ड है.

इस बढोत्तरी की एक वजह ये बताई जा रही है की फ्रांस जैसे कुछ देश तेल खरीदने के लिए अमरीकी डॉलर का प्रयोग बंद करने की सोच रहे हैं. इसी के चलते अंतरराष्ट्रीय बाज़ार में डॉलर की कीमत कम हुई है जबकि सोने का दाम बढा है.

एक अखबार में ये भी खबर छपी थी की खाड़ी के देश तेल के निर्यात के लिए अमरीकी डॉलर पर से निर्भरता से हटने का विचार बना रहे हैं. हालांकि बाद में उस अखबार ने इस खबर का खंडन भी किया है.

डॉलर का प्रभाव

विशलेषकों का ये भी मत है की की मंदी से उबरने की प्रक्रिया में अमरीकी अर्थव्यवस्था में बढ़ी हुई मुद्रास्फीति की आशंका भी डॉलर की कीमत गिरने का एक कारण बनी है.

गौरतलब है की पिछली साल मार्च महीने में करीब 30 ग्राम सोने की कीमत एक हज़ार अमरीकी डॉलर तक पहुंची थी. विश्लेषकों की ये भी राय है कि अगर डॉलर इसी प्रकार कमज़ोर होता गया तो सोने की कीमत और ऊपर जा सकती है.

अक्टूबर से लेकर दिसंबर महीने तक वैसे भी सोने की कीमत में बढोत्तरी आती है क्योंकि इसी दौरान दिवाली और क्रिसमस जैसे त्यौहार मनाए जाते हैं.

भारत और दुनिया भर में मौजूद भारतीय नागरिकों में इस समय सोने की मांग काफी बढ़ी हुई है क्योंकि 17 अक्टूबर को दिवाली का त्यौहार है.

संबंधित समाचार