सू ची की पश्चिमी राजनयिकों से बैठक

सू ची
Image caption सू ची अनेक वर्षों से बर्मा की सैन्य सरकार की हिरासत में हैं

बर्मा में सैन्य प्रशासन द्वारा नज़रबंद की गई लोकतंत्र की पक्षधर नेता आंग सांग सू ची ने अमरीका, ब्रिटेन और ऑस्ट्रेलिया के राजनयिकों से राजधानी रंगून में सरकारी गेस्ट हाउस में मुलाकात की है.

बर्मा में अमरीकी दूतावास ने इस बात की पुष्टि की है कि बर्मा के ख़िलाफ़ जारी अंतरराष्ट्रीय प्रतिबंधों पर चर्चा हुई है लेकिन और विस्तृत जानकारी नहीं दी गई है.

ये बैठक आंग सांग सू ची और बर्मा की सैन्य सरकार के एक प्रतिनिधि के बीच बातचीत के बात हुई है.

बर्मा में ब्रितानी राजदूत एंड्रयू हेयन ने बैठक के बात कहा, "सू ची का मक़सद था कि उन्हें प्रतिबंधों के बारे में सही तस्वीर मिले - ये क्या हैं, इनका कितना असर हो रहा है. वे काफ़ी स्वस्थ और बातचीत में व्यस्त दिखाई दीं."

नीति में परिवर्तन

एक बीबीसी संवाददाता का कहना है कि बर्मा में अगले साल चुनाव होने हैं और हो सकता है कि पश्चिमी देश अब वहाँ की सैन्य सरकार को प्रभावित करने के कोई नए रास्ते खोजने की कोशिश करें.

ग़ौरतलब है कि अमरीका ने हाल में अपनी नीति में बदलाव लाते हुए अंतरराष्ट्रीय प्रतिबंधों के साथ-साथ सैन्य सरकार के साथ बातचीत का रास्ता चुना था.

रिपोर्टों से संकेत मिले हैं कि आंग सांग सू ची हाल में प्रतिबंधों के बारे में अपने विचारों में कुछ नरम पड़ी हैं और इस फ़ैसले पर पहुँची हैं कि प्रतिबंधों से बर्मा की आम जनता का जीवन बहुत प्रभावित हो रहा है जबकि सैन्य शासक चीन और पड़ोसी देशों के साथ व्यापार से काम चला रहे हैं.

संबंधित समाचार