बच्चा घर पर, तलाश हवा में

फ़ाल्कन
Image caption पुलिस ने घर की दो बार तलाशी ली लेकिन वे बच्चो को ढूँढ़ नहीं सके

अमरीका में छह साल के एक बच्चे के बारे में यह भ्रम हो गया कि वह हीलियम भरे एक गुब्बारे में उड़ गया है और इसके बाद पूरे देश में ख़बर फैल गई और अफ़रा-तफ़री मच गई.

हीलियम का गुब्बारा दो घंटे तक उड़ता रहा और टेलीविज़न चैनल इस गुब्बारे का सीधा प्रसारण करते रहे.

सेना का एक हैलिकॉप्टर इस आशंका के साथ उस गुब्बारे का पीछा करता रहा कि कहीं बच्चा उसमें से गिर न जाए.

लेकिन बाद में पता चला कि बच्चा अपने ही घर के ऊपर वाले कमरे में ही था.

पुलिस का कहना है कि वह एक बक्से में छिपा बैठा था.

पिता की डाँट के कारण

यह घटना कोलोरैडो की है.

हीलियम का यह गुब्बारा घर पर ही बना हुआ था जिसका उपयोग बच्चे फ़ाल्कन हीने के पिता रिचर्ड हीने मौसम की जानकारी हासिल करने के लिए किया करते हैं.

अफ़रा-तफ़री की शुरुआत उस समय हुई जब फ़ाल्कन के भाई ने कहा कि जब हीलियम का यह गुब्बारा उड़ा तो फ़ाल्कन उस पर सवार था.

पुलिस ने उस बच्चे के भाई से कई बार पूछताछ की लेकिन हर बार उसने यही कहा कि उसका भाई गुब्बारे पर सवार था.

इसके बाद तो क्या था, टेलीविज़न चैनलों ने ख़बरें प्रसारित करनी शुरु कर दीं और उस गुब्बारे का सीधा प्रसारण करना शुरु कर दिया.

इस बीच पुलिस ने घर की दो बार तलाशी ली लेकिन वह पर्याप्त नहीं था.

हीलियम का गुब्बारा सात हज़ार फ़ुट की ऊँचाई तक उड़ गया और नीचे आने से पहले चालीस किलोमीटर दूर तक चला गया.

जब गुब्बारा नीचे आया तो बचाव दल की गाड़ियों ने उसे चारों ओर से घेर लिया लेकिन उससे जुड़ा बास्केट नहीं था और बच्चे के उसमें होने का सवाल ही नहीं था.

Image caption इस गुब्बारे की वजह से डेनवर हवाई अड्डे पर यातायात भी प्रभावित हुआ

मामला तब ख़त्म हुआ जब लैरिमर काउंटी के शेरिफ़ जिम ऑल्डरडेन ने घोषणा की - "बच्चा अपने घर में ही मिल गया है."

गुरुवार को गुब्बारे के अचानक ही उड़ जाने के बाद शोर-शराबा शुरु हो गया.

पुलिस को सूचना दी गई और फिर पुलिस ने आकर घर वालों और पड़ोसियों से जानकारी हासिल की कि गुब्बारा किस दिशा में उड़ा.

फ़ाल्कन के भाई ने पुलिस को बताया कि उसने अपने भाई को गुब्बारे के बास्केट में चढते हुए देखा था.

यह तो बच्चे के मिल जाने के बाद पता चला कि गुब्बारे के उड़ने से पहले वह उतर गया था.

बच्चे फ़ाल्कन ने बताया कि गुरुवार को वह गुब्बारे के बास्केट में चढ़ गया था और इससे उसके पिता नाराज़ हो गए थे और उन्हें डाँटा था.

फ़ाल्कन का कहना है, "पिता की डाँट से मैं डर गया था इसलिए मैं अपने घर के सबसे ऊपर बने कमरे में जाकर छिप गया था."

यह पूछने पर कि जब गुब्बारा नीचे आया तो फ़ाल्कन उसमें नहीं था, उसके पिता ने कहा, "मैने सोचा कि वह गुब्बारे से नीचे गिर गया होगा."

उन्होंने कहा, "अब मन को तसल्ली मिली है, अब हम फ़ाल्कन का ज़्यादा ख़याल रखेंगे."

संबंधित समाचार