स्वाइन फ़्लू राष्ट्रीय आपदा घोषित

Image caption अमरीका के 46 राज्यों में स्वाइन फ़्लू फैल चुका है

अमरीका में स्वाइन फ़्लू को राष्ट्रीय आपदा घोषित कर दिया गया है. व्हाइट हाउस ने बताया है कि राष्ट्रपति बराक ओबामा ने एन1एन1 से जुड़े इस घोषणा-पत्र पर हस्ताक्षर कर दिए हैं.

राष्ट्रीय आपदा की घोषणा से आपातकालीन योजनाओं को आसानी से अंजाम दिया जा सकेगा और मरीज़ों से निपटने में आसानी होगी.

पिछले हफ़्ते अमरीकी अधिकारियों ने कहा था कि स्वाइन फ्लू ने 46 राज्यों में अपना जाल फैला लिया है. इस वायरस के कारण अमरीका में एक हज़ार से ज़्यादा लोग मारे जा चुके हैं.

अमरीकी अधिकारियों का कहना है कि राष्ट्रपति की नई घोषणा उसी तर्ज़ पर की गई है जैसे किसी भी तूफ़ान के आने से पहले की जाती है. इस निर्देश के बाद अधिकारी लाल फ़ीताशाही की बाधाओं को दरकिनार कर कई क़दम उठा सकते हैं ताकि आपातकालीन स्थितियों से निपटा जा सके.

दवाइयों की कमी

राष्ट्रपति के नए निर्देश का मकसद नौकराशाही के कारण आने वाली रुकावटों को दूर करना है ताकि मरीज़ों को जल्द से जल्द उपचार मिल सके.

अब कागज़ी कार्रवाई पर कम वक़्त ज़ाया होगा और बीमार लोगों के इलाज के लिए अस्पतालों के बाहर अतिरिक्त स्वास्थ्य केंद्र खोले जा सकेंगे.

अपने बयान में ओबामा ने कहा है,"2009 का एच1एन1 वायरस लगातार बढ़ रहा है, देश के अंतर कई समुदायों में बीमारी तेज़ी से फैल रही है और इस बात का ख़तरा बना हुआ है कि कई जगह स्वाइन फ़्लू के कारण स्वास्थ्य सुविधाओं पर अतिरिक्त बोझ पड़ सकता है."

प्रशासन ने स्वीकार किया है कि दवाइयों की डिलिवरी में देरी हो रही है. प्रशासन को उम्मीद है कि नवंबर मध्य तक पाँच करोड़ दवाइयाँ बाँट दी जाएँगी.

अनुमान के मुताबिक अमरीका में एच1एन1 के कारण 20 हज़ार लोग भर्ती हैं.

संबंधित समाचार