बिना शर्त बातचीत हो: क्लिंटन

Image caption अमरीका चाहता है कि कम से कम हिंसा की स्थिति पैदा होने से तो रोकी जाए

अमरीकी विदेश मंत्री हिलेरी क्लिंटन ने कहा है कि मध्य-पूर्व में शांति वार्ता शुरू करने में इसराइली बस्तियों को हटाने या नहीं हटाने का मामला बीच में नहीं आना चाहिए.

उन्होंने इसराइली प्रधानमंत्री बेंजामिन नेतन्याहू और फ़लस्तीनी नेता महमूद अब्बास के साथ अलग-अलग बैठक करने के बाद ये बात कही.

हिलेरी क्लिंटन ने कहा, "मैं चाहती हूं कि दोनों पक्ष जल्दी से जल्दी वार्ता की मेज पर आएँ."

हालाँकि उनकी अपील के बावजूद वार्ता शुरु करने के ठोस संकेत नहीं मिल सके.

बीबीसी संवाददाताओं का कहना है कि फ़लस्तीनी नेता इसराइली बस्तियों पर हिलेरी के बयान से आहत महसूस कर रहे हैं और इसे ओबामा प्रशासन की नीति के बदलाव की तरह देख रहे हैं.

फ़लस्तीनियों की माँग रही है कि इसराइल सबसे पहले अधिकृत भू भाग में बनी बस्तियों को हटाए और नई बस्तियाँ बनाने पर रोक लगाए.

लेकिन नेतन्याहू का कहना है कि इस तरह की शर्त लगाना बातचीत शुरु करने के ख़याल से ठीक नहीं है.

मध्यपूर्व के दौरे पर पहुँची हिलेरी क्लिंटन ने अबू धाबी में फलस्तीनी राष्ट्रपति महमूद अब्बास से मुलाकात की.

उसके बाद वो येरूशलम पहुंची जहाँ उन्होंने इसराइली प्रधानमंत्री बेंजामिन नेतान्याहू, रक्षामंत्री एहुद ओल्मर्ट और विदेशमंत्री एविगदोर लिबेरमैन से मुलाकात की.

संबंधित समाचार