इराक़ में चुनाव सुधार क़ानून पास

इराक़
Image caption इराक़ में अगले साल जनवरी में आम चुनाव होने है

इराक़ी संसद ने एक अहम चुनाव विधेयक को मंज़ूरी दे दी है, जिसके तहत पूर्व निर्धारित कार्यक्रम के मुताबिक़ अगले साल जनवरी में आम चुनाव हो पाएगा.

हफ़्तों तक चली जद्दोजहद के बाद इस चुनाव सुधार विधेयक को बड़े अंतर से पास कर दिया गया है.

पहले यह आशंका जताई जा रही थी कि इस विधेयक के पास होने में हो रही देरी के कारण राष्ट्रीय चुनाव की तिथि आगे बढ़ानी पड़ेगी.

ये भी चिंता थी कि चुनाव टालने की वजह से देश में स्थिरता की दिशा में हो रही प्रगति भी प्रभावित हो सकती है.

इस विधेयक पर मतदान 10 से ज़्यादा बार टाला गया था क्योंकि कई मुद्दों पर असहमति थी. इनमें मतपत्रों पर उम्मीदवारों के नाम सूचीबद्ध करने से लेकर किरकुक में सीटों के बँटवारे का मुद्दा था.

इस मुद्दे को समय रहते हल करने के लिए इराक़ी सांसदों पर संयुक्त राष्ट्र और अमरीका के साथ-साथ देश के धार्मिक नेताओं और राजनेताओं का काफ़ी दबाव था.

संयुक्त राष्ट्र ने तो यहाँ तक कह दिया था कि अगर ये विधेयक मंज़ूर नहीं होता तो वे चुनाव को मान्यता देने की गारंटी नहीं देंगे.

इराक़ से बीबीसी संवाददाता जिम म्यूर का कहना है कि क़ानून पास हो जाने के बाद अमरीका ने भी राहत की साँस ली होगी.

संबंधित समाचार