कमज़ोर सरकार, तेज़ भ्रष्टाचार

Image caption ट्रांसपैरेंसी इंटरनैशनल का कहना है कि जहां सरकार कमज़ोर है वहां भ्रष्टाचार फलता फूलता है.

भ्रष्टाचार को मापने वाली एक संस्था ने कहा है कि युद्ध प्रभावित देशों में भ्रष्टाचार सबसे ज़्यादा है.

ट्रांसपैरेंसी इंटरनैशनल नामक संस्था ने अपने सर्वेक्षण में अफ़गानिस्तान, इराक और सोमालिया को ईमानदारी की सूची में सबसे नीचे रखा है.

संस्था का कहना है, ``जब अहम संस्थाएं कमज़ोर होती हैं या मौजूद ही नहीं होतीं तो भ्रष्टाचार काबू से बाहर हो जाता है.’’

इस सर्वेक्षण के अनुसार न्यूज़ीलैंड में सबसे कम भ्रष्टाचार है.

डेनमार्क जो पिछले साल नंबर एक पर था अब दूसरे पायदान पर आ गया है और सिंगापुर सबसे कम भ्रष्टाचार वाले देशों में नंबर तीन पर है.

180 देशों में हुए इस सर्वेक्षण में भारत का 84वें पायदान पर है यानि उसकी गिनती भ्रष्ट देशों में है वहीं ब्रिटेन 17वें नंबर पर और अमरीका 19वें नंबर पर है.

संस्था का आकलन है कि जहां राजनीतिक स्थिरता है, और सरकारी संस्थाएं मज़बूत हैं वहां भ्रष्टाचार कम है.

अफ़गानिस्तान में भ्रष्टाचार अपने चरम पर है.

हाल ही में हुए चुनावों में भी भारी धांधली के आरोप लगे और अमरीका ने राष्ट्रपति करज़ई से इसे रोकने के लिए सख़्त कदम उठाने को कहा है.

संस्था का कहना है कि सार्वजनिक क्षेत्रों में भ्रष्टाचार को रोकना अब और ज़्यादा अहम है क्योंकि कई सरकारों ने मंदी से उबरने के लिए जनता का पैसा बैंकों और सार्वजनिक संस्थाओं में निवेश किया है.

संबंधित समाचार