अफ़गानिस्तान जाएंगे और अमरीकी सैनिक

सैनिक
Image caption अफ़गानिस्तान में बड़ी संख्या में विदेशी सैनिक मारे गए हैं.

अमरीकी अधिकारियों का कहना है कि राष्ट्रपति बराक ओबामा ने अगले छह महीनों में अफ़गानिस्तान में तीस हज़ार और सैनिकों को भेजने का फ़ैसला किया है.

ओबामा इस संबंध में कुछ ही घंटों में घोषणा करने वाले हैं.

ब्रसल्स में अमरीकी अधिकारियों ने बताया कि राष्ट्रपति नैटो सहयोगियों से दस हज़ार अतिरिक्त सैनिक मुहैया कराने को भी कहेंगे.

इस समय अफ़गानिस्तान में अमरीका के 68,000 सैनिक तैनात हैं और कुल विदेशी सैनिकों की संख्या एक लाख से ऊपर है.

इसके बाद जो नए अमरीकी सैनिक अफ़गानिस्तान जाएंगे वो दक्षिण और पूर्वी अफ़गानिस्तान में तालेबान से निपटेंगे.

वेस्ट प्वाइंट मिलिट्री अकेडमी में ओबामा कुछ घंटों में अपना भाषण देने वाले हैं. माना जाता है कि राष्ट्रपति इस भाषण में अफ़गानिस्तान में अमरीकी कार्रवाई की एक समय सीमा भी तय कर सकते हैं.

पेंटागन के एक वरिष्ठ अधिकारी ने बीबीसी को बताया कि नए सैनिकों में नौ हज़ार मरीन होंगे जबकि 21,000 सामान्य सैनिक होंगे. इनमें से 4,000 सैनिक अफ़गानी सुरक्षा बलों को ट्रेनिंग देंगे.

अमरीका में बीबीसी संवाददाता पॉल एडम्स का कहना है कि राष्ट्रपति ओबामा इस डर को भगाना चाहते हैं कि अफ़गानिस्तान में अमरीकी तैनाती का कोई अंत नहीं होने वाला है.

अमरीका में अफ़गानिस्तान के मुद्दे पर अब सरकार का विरोध हो रहा है क्योंकि वहां बड़ी संख्या में विदेशी सैनिक मारे जा रहे हैं.

इसी साल अफ़गानिस्तान में अमरीकी कमांडर जनरल स्टैन्ले मैकक्रिस्टल ने कहा था कि अगर अफ़गानिस्तान में और सैनिक नहीं भेजे गए तो अमरीकी मिशन असफल हो सकता है.

राष्ट्रपति ओबामा ने दस उच्च स्तरीय बैठकों के बाद अफ़गानिस्तान में सैनिकों को भेजने की घोषणा की है.

इससे पहले ब्रिटेन ने भी कहा था कि वो अफ़गानिस्तान में 500 और सैनिक भेजेगा. इटली ने भी अफ़गानिस्तान में और सैनिक भेजने की घोषणा कर दी है.

संबंधित समाचार