जलवायु परिवर्तन मनुष्य की देन:यूएन

जलवायु परिवर्तन पर बने संयुक्त राष्ट्र के आधिकारिक पैनल के प्रमुख ने उन लोगों की आलोचना की है जिन्होंने कहा है कि ग्लोबल वार्मिंग में मनुष्यों के योगदान को बढ़ा-चढ़ा कर पेश किया गया है.

जलवायु परिवर्तन पर अंतर-सरकारी पैनल (आईपीसीसी) ने कहा है कि वो अब भी इन तथ्यों को मानता है कि ग्लोबल वार्मिंग के लिए ग्रीनहाउस गैसें बड़ा कारण है.

ब्रिटेन की ईस्ट एंगलिया यूनिवर्सिटी से लीक हुए डाटा को लेकर विवाद चल रहा है. लीक हुए कुछ ई-मेल के मुताबिक जलवायु परिवर्तन के कारणों को ग़लत ढंग से पेश किया गया है.

पिछले महीने यूनिवर्सिटी के कई वैज्ञानिकों और विश्व में उनके सहयोगियों के कई संदेशों को इंटरनेट पर डाल दिया गया था.

कुछ पर्यवेक्षकों ने आरोप लगाया था कि कई ई-मेल ऐसे थे जिनमें ये संकेत दिया गया है कि यूनिवर्सिटी के प्रोफ़ेसर फिल जोन्स चाहते हैं कि जब संयुक्त राष्ट्र अगली बार जलवायु विज्ञान का जायज़ा ले तो कुछ पहलूओं को शामिल न किया जाए.

प्रोफ़ेसर जोन्स इस बात से इनकार करते हैं. स्वतंत्र जाँच होने तक उन्होंने अपना पद छोड़ दिया है.

विवाद

आईपीसी के कार्यकारी ग्रुप-एक के सह-अध्यक्ष प्रोफ़ेसर थॉमस स्टॉकर ने बयान जारी कर इंटरनेट पर ई-मेल डालने के कदम की निंदा की है हालांकि ई-मेल के बारे में कुछ नहीं कहा.

उन्होंने कहा, “जलवायु में बदलाव को कई स्वतंत्र संस्थानों ने मापा है जिनमें कहा गया है कि ज़मीन, वातावरण, समुद्रों और बर्फ़ीले इलाक़ों में बड़े पैमाने पर बदलाव आए हैं. कई तरह के मॉडल के आधार पर हुए अध्ययन से पता चला है कि जलवायु में बदलाव ग्रीनहाउस गैसों में बढ़ोतरी से हुआ है. दुनिया भर में सैकड़ों वैज्ञानिकों ने इस पर काम किया है.”

ये विवाद ऐसे समय हुआ है जब सोमवार को कोपेनहेगन में जलवायु परिवर्तन सम्मेलन शुरु होने जा रहा है.

ब्रिटेन के प्रधानमंत्री गॉर्डन ब्राउन ने कहा है कि जलवायु परिवर्तन के कारणों के लेकर वैज्ञानिक सबूत स्वष्ट है.

इस बीच ब्रिटेन के मौसम विभाग ने कहा है कि वो विश्व भर के मौसम केंद्रों से डाटा जारी करेगा जिससे साबित होगा कि जलवायु परिवर्तन मनुष्यों के कारण हुआ है.

मौसम विभाग ने 188 देशों को लिखा है कि और अनुमति माँगी है कि वो 1000 मौसम केंद्रों से 160 साल पुराना डाटा जारी कर सके.

ब्रितानी मौसम विभाग में जलवायु विज्ञान के प्रमुख जॉन मिशेल ने कहा है कि इस बात के भरपूर प्रमाण है कि ग्लोबल वार्मिंग मनुष्य के कारण हुआ है.

संबंधित समाचार