मलबे से ज़िंदा निकला युवक

हेती

हेती में आए विनाशकारी भूकंप के 11 दिनों बाद 23 वर्षीय एक युवक को मलबे से ज़िंदा बाहर निकाला गया है.

ये घटना ऐसे समय हुई है जब हेती सरकार ने बचाव कार्य बंद करने की घोषणा की है.

इस 23 वर्षीय युवक को राजधानी पोर्ट-ओ-प्रिंस में होटल नेपोली इन के मलबे से निकाला गया.

मौक़े पर मौजूद बीबीसी संवाददाता एडम माइनॉट ने बताया है कि जैसे ही इस युवक को मलबे से निकाला गया, वहाँ मौजूद हेती के लोगों और बचावकर्मियों ने हर्षध्वनि से इसका स्वागत किया.

इस युवक के माता-पिता ने यूनान के बचावकर्मियों को इस बारे में सूचना दी थी. इसके बाद यूनान के बचावकर्मियों ने फ़्रांसीसी और अमरीकी बचावकर्मियों की मदद से इस युवक को निकाला.

एक फ़्रांसीसी बचाव अधिकारी लेफ़्टिनेंट कर्नल क्रिस्टोफर रेनो ने कहा कि ये किसी चमत्कार से कम नहीं.

बीबीसी संवाददाता के मुताबिक़ इस युवक को निकालने की कार्रवाई क़रीब ढाई घंटे तक चली. कार्रवाई के दौरान बचावकर्मी इस युवक तक पानी पहुँचाने में सफल रहे.

सहायता

मलबे से निकाले जाने के बाद ये युवक वैसे तो ठीक लग रहा था, लेकिन बहुत प्यासा था.

Image caption हेती में बचाव कार्य बंद करने की घोषणा हुई है

इस व्यक्ति का पहला नाम रिचमंड बताया गया है. जब इसे मलबे से बाहर निकाला गया तो वह मुस्कुरा रहा था.

एक फ़्रांसीसी बचावकर्मी लेफ़्टिनेंट कर्नल अर्नाड ने बताया कि इस युवक को कहीं न कहीं से कुछ पानी ज़रूर मिल रहा होगा.

उन्होंने बताया कि इस युवक के ऊपर 16 से 20 फ़ीट के मलबे में ज़्यादतर लकड़ी थी और इससे उसे सहायता मिली.

इस युवक ने मलबे से निकाले जाने के बाद बताया कि चार और लोग उसके साथ मलबे में फँसे थे. लेकिन कुछ दिनों पहले उनके शरीर में हरकत बंद हो गई.

शुक्रवार को पोर्ट-ओ-प्रिंस से 84 वर्ष की एक महिला और 21 साल के एक युवक को मलबे से ज़िंदा निकाला गया था.

इससे पहले हेती सरकार ने खोज और बचाव कार्य बंद करने की घोषणा की थी.

संयुक्त राष्ट्र की प्रवक्ता एलिज़ाबेथ बायर्स ने कहा कि ये फ़ैसला दिल तोड़ने वाला ज़रूर है, लेकिन विशेषज्ञों की सलाह पर ऐसा किया गया है.

संबंधित समाचार