हमलों की जाँच के लिए समिति

भारतीय छात्र प्रदर्शन
Image caption पिछले एक साल में ऑस्ट्रेलिया में भारतीयों पर हमलों की सौ घटनाएँ हुई हैं

भारत के विदेश मंत्री एसएम कृष्णा ने कहा है कि भारतीयों पर लगातार हो रहे हमलों की जाँच के लिए ऑस्ट्रेलिया ने एक उच्च स्तरीय समिति का गठन किया है.

ऑस्ट्रेलियाई विदेश मंत्री स्टीफ़न स्मिथ से लंदन में हुई मुलाक़ात के बाद एसएम कृष्णा ने यह जानकारी दी है और उम्मीद जताई है कि ऑस्ट्रेलिया में भारतीयों पर बिना वजह हो रहे हमले रुकेंगे और सरकार जाँच पर ध्यान केंद्रित करेगी.

दोनों देशों के विदेश मंत्री अफ़ग़ानिस्तान पर गुरुवार को होने वाली चर्चा के लिए लंदन पहुँचे हैं.

बुधवार को स्मिथ से 30 मिनट तक हुई चर्चा के बाद भारतीय विदेश मंत्री ने कहा है कि मंत्रियों की यह उच्चस्तरीय समिति हमलों और इससे पड़ने वाले असर का अध्ययन करेगी.

उन्होंने बताया कि संघीय सरकार और विक्टोरिया स्टेट की प्रांतीय सरकार के मंत्री इस समिति में शामिल होंगे.

चेतावनी

पत्रकारों से चर्चा करते हुए उन्होंने कहा, "इस समिति की पहली बैठक इस हफ़्ते के अंत में होगी और इसके बाद यह समिति अपने आकलनों से भारत को अवगत कराएगी."

समाचार एजेंसी पीटीआई के अनुसार उन्होंने कहा, "भारत सरकार संतुष्ट हो जाएगी अगर ऑस्ट्रेलियाई सरकार जाँच में ध्यान केंद्रित करती है और पता लगाती है कि जो हमले हुए हैं वो किशोंरों ने किए हैं, वे अवसरवादी शहरी अपराध हैं या फिर नस्लभेदी हमले हैं."

ऑस्ट्रेलियाई विदेश मंत्री ने जो जानकारियाँ दीं उसके आधार पर उन्होंने बताया कि वहाँ भारतीय छात्रों की सुरक्षा के लिए इंतज़ाम किए गए हैं और सामाजिक निगरानी की व्यवस्था भी बढ़ाई गई है.

समाचार एजेंसी का कहना है कि ऑस्ट्रेलियाई विदेश मंत्री ने फ़ोन करके भारतीय विदेश मंत्री से मिलने की इच्छा जताई थी.

पिछले कुछ महीनों में दोनों देशों के नेताओं के बीच कई बार चर्चा हो चुकी है और भारत सरकार ने वहाँ भारतीयों पर हो रहे हमलों पर गहरी चिंता जताई है.

पिछले दिनों एसएम कृष्णा ने चेतावनी दी थी कि अगर ऑस्ट्रेलियाई सरकार ये हमले नहीं रोकती है तो इससे दोनों देशों के संबंधों पर असर पड़ सकता है.

उल्लेखनीय है कि ऑस्ट्रेलिया में वर्ष 2009 से अब तक भारतीयों पर हमलों की सौ से अधिक घटनाओं की शिकायतें दर्ज करवाई गई हैं. ज़्यादातर हमले छात्रों पर हुए हैं.

संबंधित समाचार