सेक्स अनुभव की डींग पर सज़ा

सऊदी अरब पुलिस

कड़े इस्लामी क़ानून के तहत जावेद को सज़ा सुनाई गई थी

सऊदी अरब में एक टीवी कार्यक्रम के दौरान अपने 'सेक्स' अनुभव की डींग मारने वाले मज़ेन अब्दुल जव्वाद की सज़ा अपील कोर्ट ने बरक़रार रखी है. उन्हें पाँच साल की जेल और एक हज़ार कोड़े मारे जाने की सज़ा सुनाई गई थी.

उन्हें पिछली अक्तूबर में इस्लामी क़ानून के तहत अनैतिक आचरण का दोषी पाया गया था.

पिछले साल जुलाई में बेरूत के लेबेनीस ब्रॉड्कास्टिंग कॉर्पोरेशन (एलबीसी) टीवी चैनल पर प्रदर्शित कार्यक्रम रेड लाईन में अब्दुल जव्वाद ने अपने तीन साथियों के साथ भाग लिया था.

इसमें 32 वर्षिय जव्वाद ने शादी से पहले ही लड़कियों से शारीरिक संबंध स्थापित करने का विवरण दिया था.

इस कार्यक्रम के प्रसारण के बाद दर्शकों ने सरकार को शिकायत की थी और जव्वाद को सज़ा दिए जाने की मांग की थी.

सरकार ने इस शिकायत को गंभीरता से लिया और अब्दुल जव्वाद को ग़िरफ़्तार कर उस पर मुक़दमा चलाया.

ग़िरफ़्तारी के दो महीने बाद अदालत ने फ़ैसला सुनाया था. जव्वाद ने माफ़ी माँगी थी और आरोप लगाया था कि कार्यक्रम के प्रोड्यूसर ने उन्हें धोखे से कुछ कहानियाँ बताने के लिए फुसलाया था.

इस फ़ैसले के बाद इस मुकदमे की सुनवाई अपील कोर्ट में हो रही थी पर उन्हें कोई राहत नहीं मिली और उनकी सज़ा बरकरार रखी गई है.

जव्वाद के साथ उनके तीन दोस्त भी कार्यक्रम में शामिल थे. उन्हें भी दो साल की जेल और 300 कोड़े लगाए जाने की सज़ा मिली है.

एलबीसी टीवी के सऊदी अरब दफ़्तर को भी बंद करवा दिया गया है. लेकिन जव्वाद के वकील का कहना है कि इस घटना के लिए चैनल के मालिक और प्रबंधक के ख़िलाफ़ कोई मामला दर्ज नहीं किया गया है.

सऊदी अरब का समाज काफ़ी रूढ़िवादी है जहाँ शराब पीना और शादी से पहले शारीरिक संबंध स्थापित करना क़ानूनी तौर पर अपराध है.

BBC © 2014 बाहरी वेबसाइटों की विषय सामग्री के लिए बीबीसी ज़िम्मेदार नहीं है.

यदि आप अपने वेब ब्राउज़र को अपडेट करते हुए इसे स्टाइल शीट (सीएसएस) के अनुरूप कर लें तो आप इस पेज को ठीक तरह से देख सकेंगे. अपने मौजूदा ब्राउज़र की मदद से यदि आप इस पेज की सामग्री देख भी पा रहे हैं तो भी इस पेज को पूरा नहीं देख सकेंगे. कृपया अपने वेब ब्राउज़र को अपडेट करने या फिर संभव हो तो इसे स्टाइल शीट (सीएसएस) के अनुरुप बनाने पर विचार करें.