गूगल की सोशल नेटवर्किंग

बज़
Image caption गूगल की बज़ का सीधा मुक़ाबला फेसबुक से होगा.

सर्च इंजन और ईमेल के क्षेत्र में ज़बर्दस्त परिवर्तन लाने वाली कंपनी गूगल ने अब सोशल नेटवर्किंग साइट शुरु की है जिसका नाम बज़ रखा गया है.

बज़ सीधे सीधे गूगल की ईमेल सेवा यानी जीमेल से जुड़ी हुई है यानि जीमेल पर अब लॉग-इन करते ही आपको बज़ से जुड़ने की सुविधा मिल जाती है.

बज़ का सामना फेसबुक से सीधे सीधे होगा जिसके इस समय कम से कम चार करोड़ उपभोक्ता हैं. फेसबुक करीब छह साल पहले 2004 में शुरु हुआ था.

बज़ शुरुआती दौर में जीमेल का इस्तेमाल करने वाले अपने उपभोक्ताओं को जोड़ना चाहेगा. दुनिया भर में जीमेल इस्तेमाल करने वालों की संख्या इस समय एक करोड़ सत्तर लाख है.

बीबीसी के टेक्नोलॉजी संवाददाता रोरी सेलान जोन्स का कहना है कि सोशल नेटवर्किंग के क्षेत्र में काफ़ी जगह है और इसी को देखते हुए बज़ लांच की गई है.

वो कहते हैं, ‘‘ बज में कई नए फीचर हैं खास तौर पर मोबाइल के ज़रिए सोशल नेटवर्किंग साइट पर जाने वालों के लिए लेकिन देखना होगा कि बज़ अपने विरोधी फेसबुक और ट्विटर का कैसे सामना करती है.’’

बज़ का इस्तेमाल करने वाले अपनी स्थिति यानी स्टेटस अपडेट कर सकते हैं और साथ ही ट्विटर, यूट्यूब, पिकासा और फ्लिकर के साथ सामग्री का आदान प्रदान भी कर सकते हैं.

गूगल के कार्यालय में एक प्रेस कांफ्रेस में बज़ लांच हुई. इस दौरान बज़ के प्रोडक्ट मैनेजर टॉड जैक्सन का कहना था कि यह ‘जीमेल में एक नई दुनिया’ है.

यह पहली बार नहीं है जब गूगल ने कोई सोशल नेटवर्किंग साइट शुरु की हो. 2004 में गूगल ने ओरकुट लांच किया था जो काफ़ी लोकप्रिय हुआ लेकिन बाद में फेसबुक से उसे कड़ी चुनौती मिली.

संबंधित समाचार