अमरीका में बनेंगे परमाणु संयंत्र

राष्ट्रपति ओबामा
Image caption ओबामा ने तीस साल बाद परमाणु संयंत्र बनाने की योजना को मंज़ूरी दी है.

अमरीकी राष्ट्रपति बराक ओबामा ने देश में तीस वर्षों के बाद पहला परमाणु ऊर्जा संयंत्र बनाने के लिए आठ अरब डॉलर का ऋण देने की घोषणा की है.

अमरीका के जार्जिया राज्य में दो नए परमाणु संयंत्र बनेंगे जिनका निर्माण कार्य साउथर्न कंपनी करेगी.

राष्ट्रपति का कहना था कि ये दोनों संयत्र बिल्कुल ‘सुरक्षित और स्वच्छ’ होंगे और देश की ऊर्जा ज़रुरतों को पूरा करने के लिए उनकी आवश्यकता है.

अमरीका में 1979 में थ्री माइल्स आईलैंड में हुई दुर्घटना के बाद कोई नया परमाणु संयंत्र नहीं बनाया गया है.

इस दुर्घटना में परमाणु रिएक्टर का एक हिस्सा गल गया था जिसके बाद बड़ी मात्रा में रेडियोएक्टिव गैसें वायुमंडल में मिल गई थीं.

राष्ट्रपति ने कहा कि इस परियोजना से ‘अगले आठ वर्षों में हज़ारों की तादाद में नौकरियां उपलब्ध होंगी और सैकड़ों की तादाद में अच्छे वेतन वाली नौकरियां मिल सकेंगी.’

उनका कहना था कि जलवायु परिवर्तन से निपटने के लिए सुरक्षित और स्वच्छ ऊर्जा की एक नई पीढ़ी तैयार करने की दिशा में यह एक छोटी सी शुरुआत है.

ये दोनों संयंत्र जार्जिया में पहले से मौजूद परमाणु प्लांटों के पास ही बनेंगे.

साउथर्न कंपनी के अनुसार इसके निर्माण के दौरान कम सेकम 3000 निर्माण संबंधी रोज़गार मिलेंगे जबकि एक बार संयंत्र शुरु हो जाए तो 850 लोगों को स्थायी नौकरी मिलेगी.

कंपनी के मुख्य कार्यकारी डेविड रैडक्लिफ का कहना था कि राष्ट्रपति की घोषणा आने वाले दिनों में देश की ज़रुरतो में परमाणु ऊर्जा की भूमिका दर्शाता है.

संबंधित समाचार