कनाडा सेना की महिला कमांडर

जेनी कैरिगनन
Image caption जेनी चार बच्चों की मां हैं

लेफ़्टिनेंट कर्नल जेनी कैरिगनन चार बच्चों की मां हैं. उन्होंने 2003 में उस वक़्त इतिहास रचा जब वो कनाडा सैन्य दस्ते की पहली महिला उप कमांडिंग अधिकारी बनीं.

वो अभी दक्षिणी अफ़ग़ानिस्तान के सबसे ख़तरनाक इलाक़ों में से एक कंधार सूबे में तैनात हैं और इंजीनियरों और बारूदी सुरंग के विशेषज्ञों के एक दल की अगुवाई कर रही हैं.

उनका कहना है, "मेरे अधीन काम करने वाले पुरूष उनके साथ अन्य सैनिक जैसा ही सलूक करते हैं, लेकिन हमेशा ऐसा नहीं होता है."

उन्होंने बीबीसी से कहा, "शुरू में एक लेफ़्टिनेंट के तौर पर काम करने में मुझे कुछ तनाव था, लेकिन बहुत सारे सैनिकों को शुरू में इस प्रकार के दबाव का सामना करना पड़ता है."

उनके पीछे 23 साल का सैन्य अनुभव है और उन्होंने गोलान पहाड़ी और बोसनिया हर्ज़ेगोविना के अभियान में हिस्सा लिया है और इसी कारण उन्हें आदर मिलता है.

Image caption अमरीका, इसराइल, कनाडा और ब्रिटेन में महिला सैनिकों का प्रतिशत

उनका कहना है, "मैं सबके साथ बड़ी हुई हूं. ये नहीं कि शहर में किसी नई लड़की की तरह हूं जिसे पैराशूट से वहां उतारा गया है."

जहां तक अफ़ग़ान नेशनल आर्मी का प्रश्न है तो उन्हें हैरत है कि वहां उनका कितनी अच्छी तरह स्वागत किया गया.

उन्होंने कहा, "वर्दी आपकी बहुत मदद करती है. वे मेरे साथ उसी तरह का सलूक करते हैं जैसे वे मेरे पुरूष सहयोगियों के साथ करते हैं. एक बार एक ज़िला स्तर के अफ़ग़ान नेता ने मेरी तरफ़ इशारा करते हुए कहा कि उन्हें भी इसी तरह करना चाहिए."

उनका मानना है कि चाहे आप घर पर हों या युद्ध के मैदान में जीवन उतना ही चुनौती भरा हो सकता है.

परिवार

वो चार बच्चों की मां है जो तीन से 14 वर्ष की आयु के हैं. उनका परिवार कनाडा के क्यूबेक सिटी में रहता है और उनके पति एरिक घर की देखभाल करते हैं.

जेनी ने कहा, "फ़ौज में रहना किसी के लिए भी चुनौतीपूर्ण होता है क्योंकि हमारी जीवन शैली वैसी होती है. लेकिन मेरे पति बेहतरीन तरीक़े से परिवार चला रहे हैं और मैं उनपर 100 प्रतिशत विश्वास करती हूं."

Image caption कर्नल कैरिगनन के परिवार के नाविक उनके पति एरिक हैं

कनाडा की फ़ौज में इंजीनियर के तौर पर काम कर चुके एरिक ने 22 साल तक सैन्य जीवन गुज़ार रखा है.

अब वो प्लाटून के कमांडर इन चीफ़ हैं. कैरिगनन के पति एरिक 14 वर्षीय ज़ाक, 11 वर्षीय एमेली, नौ वर्षीय इयान और तीन साल की कैमेली की देखभाल करते हैं.

एरिक का कहना है, "एमेली एक सप्ताह में तीन बार जिमनास्टिक करती है, ज़ाक वॉयलिन बजाता है वह कैडेट है, इयान पियानो बजाता है और हॉकी खेलता है और इस तरह मैं उनको व्यस्त रखने की कोशिश करता हूं."

उनका मानना है, "इस प्रकार उनका दिमाग़ व्यस्त रहता है और यह हालात से निपटने का अच्छा तरीक़ा है."

एरिक फ़ौज से 2008 में रिटायर हो गए और उन्होंने हाईस्कूल शिक्षक के लिए प्रशिक्षण लेने की सोची.

एरिक को अगर कोई चिंता है तो यह कि जब बच्चों की मां वापस आएगी तो कैमीले को उनके साथ जुड़ने में परेशानी होगी.

उन्होंने कहा, "मैंने ऐसा होते हुए देखा है, जब इयान दो साल का था तब ऐसा ही हुआ था. जेनी गोलान हाइट्स पर तैनात थीं, जब वह वापस आईं तो इयान उनके पास नहीं जाता था, मुझसे ही चिपका रहता था."

वह इस बात पर गर्वान्वित महसूस करते हैं कि किस प्रकार बड़े बच्चों ने छोटे बच्चों को संभाल रखा है.

उन्होंने ने कहा, "मां के बिना आप एक बहुत बड़ा हिस्सा गुम पाते हैं, इसलिए उन्हें जेनी की अनुपस्थिति में पारिवारिक जीवन में कुछ ज़्यादा योगदान करना पड़ता है."

एरिक ने कहा, "मैं उन्हें आत्मनिर्भर, और मज़बूत बनते देख रहा हूं, माता-पिता के तौर पर हमारा यही लक्ष्य था."

'वाक़ई बहादुर हैं'

नाश्ते की मेज़ पर अपने खाने के साथ बैठी 11 वर्षीय एमेली कहती है कि उसे अपनी मां पर गर्व है.

उसका कहना था, "जब मैं अपने दोस्तों को कहती हूं कि मेरी मां अफ़ग़ानिस्तान में है तो वे कहते हैं तुम उदास नहीं रहती हो, तुम उन्हें मिस नहीं करती हो, फिर मैं उन्हें कहती हूं कि मैं उन्हें ज़रूर मिस करती हूं और मैं सोचती हूं कि वह वास्तव में बहादुर है कि उतनी दूर हैं."

एरिक परिवार कर्नल कैरिगनन से सप्ताह में एक बार वेब कैम से बात करता है.

इयान कहता है कि वो अपनी मां को कंप्यूटर पर देखना पसंद करता है क्योंकि वह उनके बारे में चिंतित रहता है.

उसने कहा, "मैं थोड़ा उदास रहता हूं क्योंकि वहां बहुत लोग मरते हैं और मैं अपनी मां को मुर्दा नहीं देखना चाहता. ऐसा लगता है कि मेरे दिल में कहीं कुछ कम है. मैं सितंबर तक का इंतज़ार नहीं कर सकता जब वो घर लौट कर आएंगी."

संबंधित समाचार