बर्फ़ में फंसा जहाज़ निकला

जहाज़
Image caption पिछले 15 वर्षों में इतनी कड़के की ठंड कभी नहीं पड़ी थी.

बाल्टिक सागर के बर्फ़ में फंसे जहाज़ो में से एक छोटा यात्री जहाज़ स्टॉकहोम पहुंच गया है. इस यात्री जहाज़ पर क़रीब 1000 लोग सवार थे.

फंसे जहाज़ों में से अभी तक चार को निकाल लिया गया है, लेकिन अभी भी क़रीब 50 जहाज़ों के फंसे होने की आशंका है.

कुछ जहाज़ें स्टॉकहॉम और ऑलैंड द्वीपों के बीच फंसी हैं तो कुछ बॉथनिया की खाड़ी के उत्तर में फंसी हैं.

समुद्र की निगरानी करने वाली स्वीडन की मैरीटाइम अथॉरिटी का कहना है कि जहाज़ों को निकालने का काम जारी है लेकिन तेज़ हवा के कारण इसमें परेशानी हो रही है.

सूत्रों के अनुसार इस क्षेत्र में इतनी कड़ाके की ठंड पिछले 15 वर्षों में कभी नहीं पड़ी थी.

मैरीटाइम अथॉरिटी का कहना है कि यात्री जहाज़ों को निकालने के काम को प्राथमिकता दी जा रही है और इसमें कई घंटे और लगेंगे. बताया जा रहा है कि कुछ जगहों पर बर्फ़ कई मीटर मोटी है.

एलोरेला नाम के जहाज़ के एक यात्री ने कहा, “बर्फ़ के दलदल से निकलने के दौरान दो जहाज़ आपस में टकरा गए. फिर घोषणा हुई कि सभी यात्री जाहज़ के पिछले भाग में चले जाएं जिससे हमलोग चिंतित हो गए थे.”

स्वीडन और फिनलैंड ने जहाज़ों के पास से बर्फ़ हटाने के लिए बर्फ़ कटर लगाए हैं लेकिन इस काम में समय लग रहा है.

संबंधित समाचार