अफ़ग़ानिस्तान में परिवार नियोजन

मौलवी
Image caption अफ़ग़ानिस्तान मे क़ुरान का हवाला देकर परिवार नियोजन की तैयारी

अफ़ग़ानिस्तान में परिवार नियोजन के प्रति जागरूकता लाने के लिए मौलवियों की सहायता ली जाएगी.

अफ़ग़ानिस्तान में अधिकारियों के मुताबिक देशव्यापी परिवार नियोजन अभियान की तैयारी चल रही है, जिसके लिए धार्मिक नेताओं और मौलवियों की मदद ली जाएगी.

अफ़ग़ानिस्तान के पारंपरिक समाज के लिए गर्भ निरोध एक नई धारणा है, ख़ास तौर से ग्रामीण इलाक़ों में तो गर्भनिरोधकों के बारे में जानकारी या जागरूकता न के बराबर है.

अफ़ग़ानिस्तान सरकार के लिए ये एक बड़ी चिंता का विषय है.

अफ़ग़ानिस्तान में बढ़ी हुई जन्म दर के कारण गर्भवती महिलाओं में मृ्त्यु दर भी ऊंची है.

इसीलिए सरकार ने अफ़ग़ानिस्तान की जनता को नियोजित परिवार के फ़ायदे समझाने का ज़िम्मा मौलवियों को सौंप दिया है.

इस अभियान के तहत मौलवी और अन्य धार्मिक नेता देश भर में क़ुरान की आयतों का हवाला देकर लोगों को ये समझाने का प्रयास करेंगे कि बच्चों की पैदायश के बीच में ज़्यादा अंतर रखना क्यों ज़रूरी है.

अफ़ग़ानिस्तान में गर्भ निरोधक उपायों का इस्तेमाल एक विवादित विषय रहा है और बड़ी संख्या में मौलिवियों ने इसका विरोध किया है.

सरकार अब ये आशा कर रही है कि एक पारंपरिक समाज में मौलवी ही अपने प्रभाव का इस्तेमाल करके लोगों को इस बारे में जागरूक बना सकेंगे.

संबंधित समाचार