मलिकी के अच्छे प्रदर्शन के संकेत

इराक़ हिंसा

इराक़ के संसदीय चुनाव के अनौपचारिक नतीजों से संकेत मिले हैं कि प्रधानमंत्री नूरी अल-मलिकी के गठबंधन ने अच्छा प्रदर्शन किया है, विशेष तौर पर दक्षिणी इलाक़ो में जहाँ शिया बहुमत में हैं.

उधर अधिकारियों और कुछ राजनीतिक नेताओं के अनुसार ऐसा प्रतीत होता है कि पूर्व प्रधानमंत्री ईयाद आलावी के नेतृत्व वाले धर्मनिरपेक्ष सुन्नी-शिया गठबंधन ने उत्तरी और पश्चिमी सुन्नी क्षेत्रों में बेहतर प्रदर्शन किया है.

अल-मलिकी के गठबंधन का मुक़ाबला शियाओं के इराक़ी नेशनल एलायंस और ईयाद आलावी के नेतृत्व वाले धर्मनिरपेक्ष सुन्नी-शिया गठबंधन से है.

अधिकारियों के अनुसार इराक़ के आम चुनाव में हुई हिंसा के कारण 38 लोगों के मारे जाने के बावजूद मतदान के दौरान 62 प्रतिशत मतदान हुआ.

प्रारंभिक नतीजों के कुछ दिनों तक आने की संभावना नहीं है. मतदान के आंकड़े वर्ष 2005 में हुए 75 प्रतिशत मतदान के मुकाबले में कुछ कम है.

अंतिम आधिकारिक नतीजे मार्च के आख़िर में ही आएँगे.

बग़दाद के इलाक़े से प्रारंभिक नतीजे मंगलवार को आएँगे जिनसे ये भी तय हो सकता है कि इस चुनाव में किसका पलड़ा भारी रहेगा.

एक इराक़ी राजदूत समीर सुमैदायी का कहना है कि उम्मीदवारों ने सामुदायिक मसलों की जगह राष्ट्रीय मुद्दों को उठाना बेहतर समझा है.

उनका मानना है कि ऐसा इसलिए हुआ है क्योंकि पिछले चुनावों में सामुदायिक मसले उठाने वालों को वोटरों का समर्थन नहीं मिला था.

संबंधित समाचार