हमास के नेता महर औदा गिरफ़्तार

महर औदा की तस्वीर
Image caption इसरायली पुलिस को काफी अर्से से महर औदा की तलाश थी

इसराइली सेना का कहना है कि फ़लस्तीनी चरमपंथी गुट हमास के एक बड़े नेता मेहर औदा को पश्चिमी तट के रामल्ला शहर से गिरफ़्तार कर लिया गया है.

पिछले एक दशक से भी ज़्यादा समय से इसराइली सेना को कई गंभीर हमलों के सिलसिले में औदा की तलाश थी.

मेहर औदा हमास की सैन्य शाख़ा अल क़सम ब्रिगेड के एक संस्थापक सदस्य माने जाते हैं.

हमास का कहना है कि पश्चिमी तट में नियंत्रण बनाए हुए फ़लस्तीनी गुट फतह के सुरक्षाबलों ने मेहर औदा को गिरफ्तार करवाने में इसराइली सेना की मदद की.

इसराइल के सैन्य प्रवक्ता ने समाचार एजेंसी एएफ़पी को बताया, "इसराइल मे हुए सिलसिलेवार आत्मघाती हमलों में हाथ होने के लिए 1990 के दशक के अंत से ही औदा की तलाश थी. उन आत्मघाती हमलों मे 70 लोग मारे गए थे."

इन हमलों में वर्ष 2003 में येरुशलम के एक कैफ़े औऱ इसराइली सैन्य ठिकाने के नज़दीकी बस स्टॉप पर हुए हमले भी शामिल हैं.

हमास ने एक वक्तव्य जारी करके औदा की रामल्ला से गिरफ्तारी की पुष्टि की और कहा कि उनके प्रतिद्वंद्वी फलस्तीनी गुट फतह के सहयोग से ही इसराइली सेना उन्हें गिरफ्तार कर पाई है.

पश्चिमी तट के इलाक़े का नियंत्रण संभाल रहे फ़तह गुट ने अभी तक इसकी पुष्टि नहीं की.

माना जाता है कि औदा के गुट के चरमपंथियों ने कथित रूप से हमास को इसराइल पर हमलों के लिए गोलाबारूद मुहैया करवाया और इसरायल को सहयोग देने वाले संदिग्ध फलस्तीनियों का अपहरण भी करवाया.

पश्चिमी तट में फतह गुट और इसरायली सेना वर्ष 2007 से ही हमास के साथ संघर्ष कर रहे हैं, जबसे हमास ने ग़ज़ा का नियंत्रण संभाला था.

संबंधित समाचार