अमरीका को हद से ज्यादा सम्मान न देने की ब्रिटेन को सलाह

एक अध्ययन के अनुसार ब्रिटेन को अमरीका की हाँ में हाँ कम मिलानी चाहिए और कुछेक नीतिगत मामलों में न कहने के लिए भी तैयार रहना चाहिए.

विभिन्न दलों के ब्रितानी सांसदों की एक समिति ने निष्कर्ष निकाला है कि ब्रिटेन को अमरीका के साथ नजदीकी रिश्ते बनाए रहने चाहिए.

लेकिन उसका कहना है कि ये अन्य रिश्तों की तरह है और ब्रिटेन का अमरीका के निर्णयों में प्रभाव धीरे धीरे कम होता जाएगा.

लेकिन ब्रितानी सांसदों का कहना है कि गुप्तचर सूचनाओं के आदान प्रदान से दोनों देशों को लाभ होगा और हाल के कुछेक मामलों पर मतभेद के बावजूद दोनों देश के रिश्ते विशेष बने हुए हैं.

बीबीसी संवाददाता का कहना है कि बदलती दुनिया में अमरीकी कई अन्य देशों से नजदीकी रिश्ते बना रहा है.

साथ ही सांसदों ने ब्रिटेन के विदेश मंत्रालय में कटौती को अनुचित करार दिया.

ब्रिटेन के अमरीका में प्रतिनिधित्व में कमी आई है और इस रिपोर्ट में कहा गया है कि अब इसमें कटौती उचित नहीं होगी.

ग़ौरतलब है कि इसके पहले ब्रितानी प्रधानमंत्री गॉर्डन ब्राउन कहते रहे हैं कि दोनों देशों के बीच संबंध न टूटने वाले हैं और दुनिया की कोई भी ताक़त दोनों देशों को अलग नहीं कर सकती है.

अमरीकी राष्ट्रपति बराक ओबामा भी घोषणा करते रहे हैं कि ब्रिटेन अमरीका का करीबी सहयोगी है, दोनों देशों के बीच गहरा संबंध है और ये रिश्ता टूटेगा नहीं.

साथ ही उन्होंने स्पष्ट किया कि ये धारणा ग़लत है कि दोनों देशों के बीच ख़ास रिश्ते में कमी आई है.

संबंधित समाचार