किर्गिज़ राष्ट्रपति को जान का डर

शोक मनाने पहुंचे लोग
Image caption विपक्ष ने अंतरिम सरकार का गठन किया है और वो अब राष्ट्रपति का इस्तीफ़ा चाहते हैं

किर्गिस्तान के राष्ट्रपति कुरमानबेक बाकियेव ने आशंका जताई है कि अगर वो राजधानी बिशकेक लौटे तो उनकी हत्या कर दी जाएगी.

देश के जलालाबाद शहर में एक गुप्त ठिकाने पर बीबीसी संवाददाता से बातचीत करते हुए बाकियेव ने कहा कि पिछले हफ्ते देश में हुए विद्रोह पूर्व नियोजित थे और उसमें विदेशी ताकतों का हाथ था.

बाकियेव ने किसी देश का नाम नहीं लिया लेकिन उल्लेखनीय है कि प्रदर्शन के बाद विपक्ष ने जब सत्ता अपने हाथ में लेकर अंतरिम सरकार का गठन किया तो इस सरकार को मान्यता रुस ने दी.

अंतरिम सरकार की प्रमुख रोसा ओटुनबायेवा ने कहा है कि अगर बाकियेव इस्तीफ़ा दे दें तो उन्हें सुरक्षित देश से बाहर निकलने का मौका दिया जाएगा.

बाकियेव ने इस्तीफ़ा देने से इंकार करते हुए कहा है कि वो देश में स्थायित्व लाना चाहते हैं.

राष्ट्रपति ने कहा कि बुधवार को हुए प्रदर्शनों के दौरान प्रदर्शनकारियों ने उनके कार्यालय पर हमले किए थे.

Image caption बाकियेव का मानना है कि उनकी जान को ख़तरा है.

किर्गिस्तान में पिछले हफ्ते हुए प्रदर्शनों में सत्तर से अधिक लोग मारे गए थे और प्रदर्शनकारियों ने सत्ता अपने हाथ में ले ली थी.

राष्ट्रपति का कहना था, ''अगर मैं बिशकेक गया तो वहां मैं सुरक्षित नहीं हूं.मुझे मार दिया जाएगा. या तो मुझे भीड़ के सामने रख दिया जाएगा ये कहकर कि मैंने ही भीड़ पर गोली चलाने के आदेश दिए थे. ''

उनका कहना था कि देश के उत्तर और दक्षिणी भागों में गहना वैमनस्य है और अगर वो दोनों के बीच गृह युद्ध जैसी स्थिति को रोकने के लिए देश में बने रहेंगे.

राष्ट्रपति देश के दक्षिणी हिस्से के जलालाबाद शहर में हैं.

राष्ट्रपति ने विपक्ष की अंतरिम सरकार के प्रमुख रोसा ओटुनबायेवा के समक्ष बातचीत की पेशकश रखी है लेकिन रोसा कहना है कि बाकियेव को इस्तीफ़ा देना ही होगा.

प्रदर्शनों के दौरान मारे गए लोगों की याद में शुक्रवार को राष्ट्रीय शोक था और इस दौरान बडी संख्या में लोग राजधानी के मुख्य चौराहे पर आ गए थे. समाचार एजेंसियों के अनुसार चौराहे पर जमा लोग प्रदर्शनकारियों की मौतों के लिए बाकियेव को ज़िम्मेदार ठहरा रहे थे.

संबंधित समाचार