रविवार भी नहीं उड़ेंगे विमान

Image caption आइसलैंड के एक गांव से ज्वालामुखी का नज़ारा

अंतरराष्ट्रीय नागरिक उड्डयन प्राधिकरण का कहना है कि आइसलैंड के ज्वालामुखी से निकली राख के कारण जितनी विमान सेवाएं प्रभावित हुई हैं उतनी 11 सितंबर के हमलों के कारण भी नहीं हुई थीं.

आईसीएए के प्रवक्ता डेनिस चैगनॉन का कहना था कि इससे हो रहा वित्तीय नुकसान भी अत्यंत गंभीर हो सकता है. अभी तक ज्वालामुखी से निकल रही राख के कारण कम से कम 17 हज़ार विमान सेवाएं रद्द हुई हैं.

ताज़ा जानकारी के अनुसार रविवार को भी प्रभावित हवाई अड्डों तक न तो कोई विमान आएगा और न ही कोई विमान इन हवाई अड्डों से उड़ान भर सकेगा.

मौसम विभाग का कहना है कि अगले 24 घंटों में स्थिति में बहुत कम सुधार होने की संभावना है.

विमान परीक्षण

ज्वालामुखी की राख से विमानों को होने वाले नुकसान की जानकारी जुटाने के लिए हॉलैंड की विमान सेवा केएलएम ने प्रयास किया है.

केएलएम ने अपना एक विमान राख से भरे आसमान में भेजा. अधिकारियों का कहना है कि बोईंग 737 विमान अपनी अधिकतम निर्धारित ऊँचाई ( क़रीब 13 किलोमीटर) तक गया और उड़ान में कोई बाधा नहीं आई.

अब ज़मीन पर विमान की जांच हो रही है और यह देखने की कोशिश हो रही है कि राख से विमान के कलपुर्जों को किस तरह का नुकसान पहुंचा है.

तकनीकी जांच के बाद एयरलाइंस उड्डयन अधिकारियों से अपने आपरेशन फिर से शुरु करने की अनुमति मांगेगा.

आइसलैंड में ज्वालामुखी से राख उठने के बाद गुरुवार से पूरी उत्तरी यूरोप में हवाई यातायात बाधित हुआ है और बड़ी संख्या में लोग ट्रेनों का इस्तेमाल कर रहे हैं.

ज्वालामुखी

आइसलैंड में पिछले दो सौ साल से सोया हुआ एक ज्वालामुखी पिछले सप्ताह फिर से फट पड़ा जिससे हवाई यातायात पर गंभीर असर पड़ा है.

पिछले एक महीने में दूसरी बार फटे इस ज्वालामुखी से निकल रहे राख और धुएँ के बादल साढ़े आठ किलोमीटर ऊपर तक देखे जा रहे हैं.

आइसलैंड में वैज्ञानिकों ने आशा जताई है कि हवा चलने के कारण आसमान थोड़ा साफ़ होने से वे ज्वालामुखी के ऊपर जाकर ये पता लगा सकेंगे कि ज्वालामुखी से कितनी बर्फ़ पिघली है.

आइसलैंड का ये ज्वालामुखी अंतिम बार 1821 में फटा था और तब वो कोई एक वर्ष से भी अधिक समय तक सुलगता रहा था.

आइसलैंड मध्य अटलांटिक पट्टी में पड़ता है जो यूरेशिया और उत्तर अमरीका महाद्वीपों की पट्टी की सीमा पर पड़ता है जहाँ ज़मीन के भीतर काफ़ी हलचलें आती रहती हैं.

संबंधित समाचार