अब बेल्जियम में बुर्क़े पर प्रतिबंध की तैयारी

Image caption बेल्जियम में भी बुर्क़े पर प्रतिबंध की मुहिम चल रही है

बेल्जियम की संसद में गुरुवार को बुर्क़े पर प्रतिबंध को लेकर चर्चा हो रही है.

मुस्लिम और कुछ मानवाधिकार संगठनों ने इसका विरोध किया है और कहा है कि ये बुर्क़ा पहनने वाली महिलाओं के अधिकारों का हनन है.

बेल्जियम में क़ानून के मसौदे का वहां की गठबंधन सरकार में शामिल पाँचों दलों ने समर्थन किया है.

ऐसी उम्मीद की जा रही है कि संसद में बहुमत से ये क़ानून पारित हो जाएगा.

इसके पहले फ़्रांस की सरकार ने बुर्क़े पर प्रतिबंध को लेकर अपनी योजना की घोषणा की थी.

राष्ट्रपति निकोला सर्कोज़ी का कहना है कि बुर्क़ा मुसलमान महिला की गरिमा और फ़्रांसीसी समाज की परिकल्पना के अनुकूल नहीं है.

राष्ट्रपति सरकोज़ी के नेतृत्व में हुई कैबिनेट बैठक में ये तय हुआ कि एक ऐसा क़ानून लाया जाए सार्वजनिक स्थलों पर बुर्क़ा पहनने पर पूरी तरह से रोक लगा दे.

और यदि क़ानून ने अनुमति दी तो जून से फ़्रांस में बुर्क़े पर प्रतिबंध लग जाएगा.

हालांकि सरकार के क़ानूनी सलाहकार ने कहा है इस तरह का प्रतिबंध अदालत में क़ानूनी चुनौती के सामने नहीं टिक पाएगा.

लेकिन सरकार के अपने आंकड़ों के अनुसार फ्रांस में केवल दो हज़ार ऐसी महिलाएं हैं जो सर से पैर तक ढकनेवाला बुर्क़ा पहनती हैं.

संबंधित समाचार