'आत्महत्या के लिए सहायता' का आरोप

मेलचर्ड डिंकेल
Image caption मेलचर्ड डिंकेल ने ख़ुद ही चैटरूम में जाकर लोगों को सलाह देना छोड़ दिया था

अमरीकी अधिकारियों का कहना है कि नर्स रह चुके एक व्यक्ति पर दो लोगों को इंटरनेट के ज़रिए आत्महत्या करने में सहायता करने का आरोप लगाया गया है.

विलियम मेलचर्ट डिंकेल की उम्र 47 वर्ष है और उन पर आरोप है कि उन्होंने वर्ष 2005 में ब्रिटेन में कोवेन्ट्री के मार्क ड्राइब्रो और कनाडा की नाडिया काजौजी को वर्ष 2008 में आत्महत्या करने में मदद दी.

आरोप है कि मिनेसोटा में रहने वाले मेलचर्ट डिंकेल ने अपने आपको महिला नर्स की तरह पेश किया और 'सुसाइड चैटरूम' में लोगों को सलाह देते रहे कि वे अपनी जान किस तरह से ले सकते हैं.

बताया गया है कि उन्होंने क़रीब पाँच लोगों को आत्महत्या करने में सहायता प्रदान की.

Image caption चैटरूम में कई लोग डिंकेल के जाल में फँस गए

मिनेसोटा में उनके ख़िलाफ़ दर्ज किए गए आपराधिक मामले में कहा गया है कि मिसचर्ट डिंकेल ने जाँचकर्ताओं को बताया कि उन्होंने 'रोमाँच का अनुभव करने के लिए' दर्जनों लोगों को आत्महत्या करने के लिए उकसाया.

अभियोजन पक्ष का कहना है कि मेलचर्ट डिंकेल ने कभी 'कैमी', कभी 'फाल्कन गर्ल' तो कभी 'ली दाओ' जैसे नामों से महिला नर्स की तरह अपने आपको प्रस्तुत किया और चैटरुम में ऐसा दर्शाया मानों वे आत्महत्या करने की इच्छा करने वालों से सहानुभूति रखते हैं.

उन पर आरोप हैं कि उन्होंने कुछ लोगों को आत्महत्या करने के लिए विस्तृत विवरण उपलब्ध करवाए.

कहा गया है कि वर्ष 2008 में क्रिसमस के बाद उन्होंने चैटरूम में जाना बंद कर दिया क्योंकि इसके बाद उन्हें आत्महत्या के लिए प्रेरित करने के लिए ग्लानि का अनुभव हुआ.

कुछ क़ानूनविदों का कहना है कि चूंकि मेलचर्ट डिंकेल ने सिर्फ़ इंटरनेट के ज़रिए ही लोगों को आत्महत्या करने के लिए प्रोत्साहित किया और वे किसी भी मामले से प्रत्यक्ष रुप से नहीं जुड़े थे इसलिए उन्हें सज़ा दिलवाना कठिन साबित होगा.

संबंधित समाचार