यूक्रेन की संसद में अंडे चले

इस ऑडियो/वीडियो के लिए आपको फ़्लैश प्लेयर के नए संस्करण की ज़रुरत है

किसी और ऑडियो/वीडियो प्लेयर में चलाएँ

यूक्रेन की संसद में भारी हंगामे के बीच रूस के ब्लैक सी स्थित नौसैनिक अड्डे की लीज़ बढाने पर मंज़ूरी दे दी गई.

इस हंगामे के दौरान संसद के स्पीकर पर अंडों की बरसात हुई और धुएं के बम छोड़े गए.

ये हंगामा रूस के पक्ष में प्रस्ताव के पारित होने के बाद शुरू हुआ.

इस प्रस्ताव में यूक्रेन ने क्रीमिया स्थित रूस के ब्लैक सी नौसैनिक अड्डे की लीज़ बढाने को मंज़ूरी दे दी है.

विपक्षी सांसदों ने सदन में धुंआ छोड़ने वाले बम फोड़े और स्पीकर वोलोदिमिर लितविन पर अंडे फेंके.

हालत यहां तक ख़राब हुई कि स्पीकर की मेज़ फूटे अंडों से बुरी तरह भीग गई और स्पीकर को अंडों से बचाने के लिए छतरी के साए में बाहर ले जाना पडा.

यूक्रेन संसद

यूक्रेनी संसद में हंगामे के बीच धुंए के बम फोड़े गए

अंडों की बरसात के बीच ही स्पीकर लितविन ने सदन में सांसदों को फटकार के साथ साथ प्रस्ताव पारित होने की घोषणा की.

संसद की इमारत के बाहर भी हज़ारों लोगों ने इस विधेयक के समर्थन और विरोध में प्रदर्शन किए.

एक विपक्षी कार्यकर्ता इगोर द्रेवयांको ने विरोध का कारण बताया, "यूक्रेन की प्रभुसत्ता के लिए ये समझौता एक स्थायी ख़तरा है. ब्लैक सी में रूसी नौसैनिक बेड़ा यूक्रेन की ज़मीन पर रूसी ख़ुफिया सेवा के अड्डे की तरह मौजूद है, जहां से रूस यूक्रेन विरोधी गतिविधियां चला सकता है."

पिछले हफ्ते ही यूक्रेन के राष्ट्रपति विक्टर यांकोविच और रूस के राष्ट्रपति दिमित्रि मेदवेदेफ़ के बीच ये समझौता हुआ था.

समझौते के तहत विक्टर यांकोविच ने पूर्व राष्ट्रपति विक्टर यूश्चैंको की रूस विरोधी नीतियों के ख़िलाफ़ जाकर क्रीमिया के सेवास्तोपोल में डेरा जमाए हुए रूसी नौसैनिक बेड़े की लीज़ बढ़ा दी.

यूश्चैंको यूक्रेनी ज़मीन से रूस के नौसैनिक अड्डों को हटाने के पक्षधर थे.

इस समझौते के बदले यूक्रेन को मॉस्को से मिल रही गैस के दामों में भारी रियायत मिल गई.

व्यापक विरोध

यूक्रेन की प्रभुसत्ता के लिए ये समझौता एक स्थायी ख़तरा है. ब्लैक सी में रूसी नौसैनिक बेड़ा यूक्रेन की ज़मीन पर रूसी ख़ूफिया सेवा के अड्डे की तरह मौजूद है, जहां से रूस यूक्रेन विरोधी गतिविधियां चला सकता है.

इगोर द्रेव्यांको, यूक्रेन के विपक्षी कार्यकर्ता

यूक्रेन की संसद में हुआ ये हंगामा रूस के ख़िलाफ़ देश के भीतर उभर रहे आंतरिक मतभेदों के संकेत के रूप में देखा जा रहा है.

संवाददाताओं का कहना है कि सांसदों ने भले ही संसद में अंडों और धुए बमों को हथियार बनाकर अपना विरोध दर्शाया लेकिन ये लड़ाई आगे चल कर दुनिया के नक्शे में यूक्रेन की सामरिक जगह बनाने की रणनीति को रूप में देखी जाएगी.

एक तरफ़ जहां पश्चिमी झुकाव वाले यूक्रेन की नेटों की सदस्यता की महत्वाकांक्षाएं ज़ोर मार रही हैं, वहीं रूस कुछ ज़्यादा ही उम्मीद लगाए हुए है.

रूस चाहता है कि दोनों देशों के परमाणु और उडड्यन उद्योगों का विलय हो जाए.

जब से राष्ट्रपति यांकोविच ने यूक्रेन की सत्ता संभाली है तभी से रूस के राष्ट्रपति दिमित्रि मेदवेदेफ़ के साथ उनकी नज़दीकियां भी बढ़ती देखी गई हैं.

पिछले कुछ महीनों में दोनों नेताओं के बीच कई बैठकें हो चुकी हैं.

इन बैठकों की दो अहम उपलब्धियां तुरंत ही दोनों ही देशों को मिल गई हैं, रूसी नौसैनिक बेड़े की लीज़ बढ़ गई है और यूक्रेन को मास्को से मिलने वाली गैस सस्ते दामों पर मिल गई है.

BBC © 2014 बाहरी वेबसाइटों की विषय सामग्री के लिए बीबीसी ज़िम्मेदार नहीं है.

यदि आप अपने वेब ब्राउज़र को अपडेट करते हुए इसे स्टाइल शीट (सीएसएस) के अनुरूप कर लें तो आप इस पेज को ठीक तरह से देख सकेंगे. अपने मौजूदा ब्राउज़र की मदद से यदि आप इस पेज की सामग्री देख भी पा रहे हैं तो भी इस पेज को पूरा नहीं देख सकेंगे. कृपया अपने वेब ब्राउज़र को अपडेट करने या फिर संभव हो तो इसे स्टाइल शीट (सीएसएस) के अनुरुप बनाने पर विचार करें.